नई दिल्ली: भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्तान मिताली राज ने अपनी जिंदगी और करियर से जुड़े कई राज लोगों के सामने रखा है. मिताली राज ने बताया कि उनको यहां तक पहुंचने में उनकी मेहनत और रनों की भूख सबसे बड़ा कारण है. उन्होंने कहा कि उनकी सफर में किक्रेट के भगवान सचिन तेंदुलकर के बल्ले का भी अहम रोल रहा है, साथ में उनके शब्दों का भी. मिताली ने बताया कि सचिन तेंदुलकर ने उनको एक बल्ला गिफ्ट किया था. इस बल्ले से उन्होंने बहुत रन बनाया. वह बल्ला अब भी उनके पास है. सचिन तेंदुलकर और मिताली राज ने बुधवार को राष्ट्रीय राजधानी में अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस के मौके पर यूनिसेफ की ओर से आयोजित ‘बालिका सशक्तिकरण में खेलों की अहमियत’ कार्यक्रम में शामिल हुए थे. 
 
मिताली राज ने कार्यक्रम में इस राज को दुनिया के सामने उजागर किया. मिताली ने कहा कि वो आज भी सचिन तेंदुलकर का बल्ला अपने पार रखी हैं. उन्होंने कहा कि सचिन को अभी मुझे एक और बल्ला देना है. वहीं कार्यक्रम में सचिन ने कहा कि मैं चाहता था कि ये न रुकें इसलिए बल्ला तोहफे में दिया. मैं दूसरा बल्ला भी लेकर आया हूं और आपको दूंगा. क्योंकि अगला आईसीसी महिला विश्व कप ज्यादा दूर नहीं है. मिताली ने कहा कि जब मैं क्रिकेट में 6000 रन पूरे किए थे तब सचिन सर ने मुझे बधाई दी थी. उनकी एक बात मुझे जिंदगी भर याद रहेगी.
 
 
सचिन ने कहा था कि हार नहीं मानना. अगर तुम्हे लगता है कि तुम कुछ साल और क्रिकेट खेल सकती हो तो खेलना जारी रखना. मिताली राज ने इस कार्यक्रम में अगले विश्व कप तक खेलने के सवाल पर भी जवाब दिया. उन्होंने कहा कि वह सचिन के कारण ही प्रेरित होकर अगले वर्ल्ड कप की दौड़ में शामिल हैं. मिताली ने कहा कि जब वो विश्व कप के बाद भारत लौटी थीं तो उनसे अगले विश्व कप में खेलने को लेकर सवाल किया गया था.