मोहाली. मोहाली में भारत-इंग्लैंड के बीच खेले गए तीसरे टेस्ट मैच में टीम इंडिया के पुछल्ले बल्लेबाजों ने एक अनोखा कारनामा किया है. भारतीय क्रिकेट टीम के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है कि टीम के सातवें, आठवें और नौवें नंबर के बल्लेबाजों ने अर्धशतक बनाये. ये कारनामा टीम इंडिया ने मोहाली मैच के तीसरे दिन किया. भारत ने मोहाली टेस्‍ट की पहली पारी में 417 रन बनाए, जिसमें सातवें नंबर पर अश्विन ने 72, आठवें पर जडेजा ने 90 और नौवें पर जयंत ने 55 रन की पारी खेली. 
 
भारत और इंग्‍लैंड के बीच मोहाली टेस्‍ट के तीसरे दिन टीम इंडिया के निचले क्रम के बल्‍लेबाजों ने इतिहास रच दिया. आर अश्विन, रवींद्र जडेजा और जयंत यादव ने बल्‍लेबाजी में जौहर दिखाते हुए अर्धशतक उड़ाए. इन तीनों की पारियों के बूते भारत ने पहले इंग्‍लैंड के स्‍कोर को पार किया और फिर टीम को अहम बढ़त दिलाई.
 
भारत के आखिरी चार बल्‍लेबाजों ने 230 जोड़े जो कि भारतीय क्रिकेट इतिहास में इन नंबर्स पर सबसे ज्‍यादा है. मोहाली टेस्‍ट में भारत के पांच बल्‍लेबाजों ने अर्धशतक लगाए. जडेजा, अश्विन और जयंत के अलावा विराट कोहली व चेतेश्‍वर पुजारा ने भी अर्धशतक लगाया. 
 
अश्विन ने साल 2016 में 500 रन और 50 विकेट लेने का कारनामा भी किया है. ऐसा करने वाले वे केवल दूसरे स्पिनर है. उनसे पहले साल 2008 में डेनियल वेट्टोरी ने ऐसा किया था. सात साल बाद ऐसा हुआ है जब किसी गेंदबाज ने 50 विकेट लेने के साथ ही 500 से ज्‍यादा रन भी बनाए हो.