वाराणसी. यूपी की अंतर्राष्ट्रीय फुटबॉल खिलाड़ी पूनम चौहान की डेंगू से मौत हो गई है. पूनम को पिछले 7 दिनों से तेज बुखार था और तीन दिनों से वाराणसी के एक निजी अस्पताल में भर्ती थीं. उन्हें हालत बिगड़ जाने पर हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया था. मंगलवार रात करीब नौ बजे पूनम ने आखिरी सांस ली.
 
घऱवालों के मुताबिक मंगलवार को अचानक उनके प्लेटलेट्स तेजी से गिरने लगे इसके बाद उनकी मौत हो गई. पूनम चौहान उत्तर प्रदेश की पहली अंतरराष्ट्रीय महिला फुटबॉलर थीं. पूनम इन्डियन नेशनल टीम को रिप्रेजेंट कर चुकी हैं.
 
2010 में सैफ खेलों में गोल्ड मेडल जीतने वाली टीम का हिस्सा थी
2006 में मलेशिया और 2010 में बांग्लादेश के सैफ गेम में मैडल लेकर आयी थी. वो साउथ एशियन खेलों में 2010 में गोल्ड मेडल जीतने वाली भारतीय टीम की सदस्य थीं. पूनम फिलहाल सिगरा स्टेडियम में फुटबॉल की ट्रेनर थीं. 
 
पूनम के पिता मुन्ना लाल एक दूकान चलाकर अपने बच्चों को पालते थे. पूनम भी पिछले कई दिनों से शिवपुर में पिता के साथ स्टेशनरी की दुकान चला रहीं थीं.
 
वाराणसी के सिगरा स्टेडियम में होने वाले फुटबॉल मैच की तैयारियों में पूनम टीम के साथ जुटी हुईं थीं. ऐसा माना जा रहा है कि इसी दौरान उन्हें मच्छर ने काटा जिससे वे डेंगू की चपेट में आ गईं.