नई दिल्ली. मैराथन रनर ओपी जैशा द्वारा रियो ओलंपिक में अपनी दौड़ के दौरान बेहोशी की वजह बताये जाने के बाद से मामले में कई मोड़ आ चुके हैं.  इस पर भारतीय ओलम्पिक स्टाफ भी अपनी प्रतिक्रया दे चुका है.
 
अब खेल मंत्री विजय गोयल ने दो सदस्यों वाली एक कमेटी का गठन कर जांच के आदेश दे दिए हैं. इस कमिटी को सात दिनों के अंदर अपनी रिपोर्ट देने को कहा गया है. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
एएफआई ने जैशा के आरोप के बाद कहा था कि उन्होंने और उनके कोच ने ही रेस के दौरान उन्हें एनर्जी ड्रिंक देने से मना किया था. इस पर पलटवार करते हुए जैशा ने कहा था कि फेडरेशन सच्चाई पर पर्दा डालने की कोशिश कर रही है. उन्हें अपनी जिम्मेदारियों से मुंह नहीं मोडना चाहिए.
 
बता दें कि ओपी जैशा ने आरोप लगाया था कि उनकी मैराथन दौड़ के दौरान रिफ्रेशमेंट पॉइंट्स पर  भारतीय ओलंपिक स्टाफ की ओर से उन्हें पानी देने के लिए कोई मौजूद नहीं था. उन्होंने जैसे-तैसे 42.1 किलोमीटर लंबी दौड़ बिना पानी के पूरी की और फिनिशिंग लाइन पर पहुंच कर वह बेहोश हो गयीं. जैशा को करीब दो से तीन घंटों बाद होश आया था.