रियो डी जेनेरियो. पीवी सिंधु ने इतिहास रचते हुए भारत की झोली में रजत पदक डाल दिया है. हालांकि, वह बैंडमिंटन महिला सिंगल के अंतिम मुकाबले में अपने विरोधी स्पेन खिलाड़ी केरोलीना मरीन से 21-15 से मैच हार गईं. फिर भी उन्होंने भारत के लिए रजत पदक जीत कर देशवासियों में खुशी की लहर भर दी है.

इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर

इस रजत पदक के साथ पीवी सिंधु ओलंपिक में रजत पदक जीतने वालीं और फाइनल तक पहुंने वालीं भारत की पहली महिला खिलाड़ी बनीं हैंं. इससे पहले साइना नेहवाल ने लंदन ओलंपिक्स में कांस्य पदक जीता था.
 
सिंधु को अंतिम मुकाबले में हार का थोड़ा मलाल तो है लेकिन उनकी मेहनत और प्रयासों ने देश का सिर गर्व से ऊंचा कर दिया है. फाइनल का मुकाबला बेहद कांटे का रहा. सिंधु ने केरोलीना मरीन को कड़ी टक्कर दी. एक समय तो ऐसा रहा जब मैच बिल्कुल बराबरी पर था.