नई दिल्ली. भारतीय पहलवान नरसिंह यादव का रियो ओलपिंक से बाहर होते ही देश से लेकर परिवारवाले सदमे में डूबे हुए है. इस घटना पर नरसिंह यादव की मां ने दुख जताते हुए कहा कि उनका बेटा साजिश का शिकार हुआ है.

नरसिंह की बहन ने कहा कि वो मोदी जी से अपील करती हैं कि नरसिंह पर से बैन हटाने के लिए प्रयास करें, उनका भाई स्वर्ण पदक जीत कर ही भारत आता.

इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर

कोर्ट ऑफ ऑर्बिट्रेशन फॉर स्पोर्टस, CAS ने नरसिंह पंचम यादव को डोपिंग के तहत दोषी पाया और उन्हें चार साल के लिए बैन कर दिया है.

बता दें कि वर्ल्ड एंटी डोपिंग एजेंसी (WADA) ने नरसिंह यादव को क्लीन चिट दिए जाने के फैसले पर नेशनल एंटी डोपिंग एजेंसी (NADA) के खिलाफ CAS में अपील दायर की थी. CAS ने नाडा के फैसले को खारिज करते हुए फैसला सुनाया कि उनके खाने या पीने में मिलावट की बात सही नहीं है.

अदालत ने नरसिंह के उस तर्क को भी मानने से इनकार कर दिया की उनके साथ साजिश हुई है. क्योंकि इसे साबित करने के लिए नरसिंह यादव के पास कोई सबूत नहीं है. इसी तर्क को देखते हुए नाडा ने उन्हें ओलंपिक में हिस्सा लेने की अनुमति दी थी.