रियो डी जेनेरियो. ओलंपिक में भारत के लिए गोल्ड मेडल जीत कर इतिहास में नाम दर्ज करा चुके शूटर अभिनव बिंद्रा ने इस साल ओलंपिक में भारतीय दल के खराब प्रदर्शन  के लिए पूरे सिस्टम को दोषी ठहराया है. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
उनके अनुसार इस बार ओलंपिक में अब तक का सबसे बड़ा दल उतारने के बावजूद एक भी मेडल  भारत की झोली में ना आने के पीछे बड़ा कारण खिलाड़ियों पर ध्यान नहीं दिया जाना है. इस पर बिंद्रा ने ट्वीट करतें हुए लिखा कि  ‘ब्रिटेन में प्रत्येक पदक पर 71 लाख डॉलर खर्च किए जाते हैं लेकिन हमारे यहां इसकी भारी कमी है। हम जब तक ऐसे सिस्टम को नहीं अपनाते तब तक हम पदक की उम्मीद कैसे कर सकते हैं।’
 
दरअसल बिंद्रा ने यह बात गार्जियन में छपी उस खबर के हवाले से कही जिसमें कहा गया था कि ब्रिटेन में हर खिलाड़ी पर भारी खर्च किया जाता है. बता दें कि बिंद्रा इस  साल अच्छे  प्रदर्शन के बावजूद चौथे स्थान पर रहे थे. इस साल बिंद्रा ओलम्पिक में आखरी बार उतरे थे. 
 
पिछले ओलंपिक में भारत ने 6 मैडल जीते थे लेकिन रियो ओलंपिक के 10वें दिन तक भी भारत को कोई मैडल नहीं मिला है.