रियो डी जेनेरियो. मुक्केबाजी में भारत की आखिरी उम्मीद विकास कृष्ण यादव (75 किलो भार वर्ग) क्वार्टर फाइनल में उज्बेकिस्तान के बेक्तेमीर मेलाकुजियाव से हारकर बाहर हो गए हैं. मैच गंवाने के बाद विकास ने कहा कि उन्होंने Southpaw मांगा था, लेकिन उन्हें Northpaw मिला.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
विकास भारत को मेडल दिलाने से सिर्फ 1 कदम दूर रहे. हालांकि वे कभी भी मेलाकुजियाव पर हावी नहीं हुए और मेलाकुजियाव ने उन्हें 3-0 से हरा दिया. विकास ने कहा, ‘मैं आप लोगों से इसके लिए मांफी मांगता हूं. पहले राउंड में मैंने मेलाकुजियाव पर हावी होने की कोशिश की लेकिन नाकाम रहा. उसके बाद तमाम कोशिशों के बाद भी मेरा वापसी करना बेहद मुश्किल हो गया.’
 
विकास ने आगे कहा, ‘मैं बाएं हाथ का बॉक्सर हूं और मेलाकुजियाव दाएं हाथ का. इसलिए मेलाकुजियाव के पंच का मेरे पास कोई जवाब नहीं था. मैंने कई बार इसके लिए अनुरोध भी किया था कि मेरा मुकाबला बाएं हाथ के बॉक्सर से ही कराया जाए लेकिन मेरी एक नहीं सुनी गई.’