रियो डी जेनेरियो. रियो ओलंपिक में एक महिला डॉक्टर की शिकायत के बाद भारतीय लंबी और माध्यम दूरी के कोच निकोलाइ नेसारेव को आधे दिन के लिए हिरासत में लेने के बाद छोड़ दिया गया. महिला डॉक्टर ने खेलगांव के पॉलीक्लिनिक में गलत व्यवहार की शिकायत पुलिस से की थी. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बेलारूस के रहने वाले नेसारेव को स्थानीय पुलिस थाने में रखा गया और बाद में ब्राजील के भारतीय दूतावास के दखल के बाद उन्हें छोड़ा गया. बता दें कि वह ललिता बाबर, ओ पी जैशा, सुधा सिंह जैसे एथलीटों के कोच हैं. 
 
इस बारे में  भारतीय दल के सदस्य भारतीय एथलेटिक्स महासंघ के सचिव वाल्सन ने कहा कि अब मामला सुलझ गया है और उन्हें छोड़ दिया गया है. 
 
रिपोर्ट्स के अनुसार मध्यम दूरी की धाविका ओ पी जैशा  को कल उनके इवेंट के बाद शरीर में पानी की कमी की जांच के लिये पॉलिक्लिनिक लाया आ गया था. यहां महिला डाक्टर ने उनके कोच को जैशा के साथ नहीं आने दिया. ऐसे में स्नेसारेव ने गुस्से में महिला डाक्टर को धक्का दिया और वह भीतर चले गए. 
 
इसके बाद महिला डॉक्टर ने पुलिस में शिकायत की. फिलहाल मामला पूरी तरह से सुलझ चुका है.