नई दिल्ली. डोपिंग टेस्ट में फंसे नरसिंह यादव की मुश्किलें कम होने का नाम ही नहीं ले रही. डोपिंग मामले में नेशनल एंटी डोपिंग एजेंसी (NADA) का फैसला सोमवार को आएगा. नरसिंह यादव की सुनवाई 28 जुलाई को पूरी हो गई थी, लेकिन नाडा ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बता दें कि रियो ओलिंपिक शुरू होने में जहां कुछ ही दिन बाकी हैं, ऐसे में भारत को डोपिंग के दो बड़े मामलों से जूझना पड़ रहा है. पहला मामला पहलवान नरसिंह यादव से जुड़ा है, तो दूसरा शॉट-पटर इंदरजीत सिंह से संबंधित है.
 
पहलवान नरसिंह यादव की जगह प्रवीण राणा रियो ओलंपिक में हिस्सा लेंगे. खबरों की मुताबिक भारतीय कुश्ती संघ ने 74 किलो वर्ग में प्रविण राणा का नाम भेज दिया है. राणा वही पहलवान हैं, जिन्हें नरसिंह ने फाइनल ट्रायल में शिकस्त दी थी.
 
 
राणा ने 2014 में अमेरिका में डेव शूल्ट्ज मेमोरियल कुश्ती टूर्नामेंट में 74 किलो वर्ग में स्वर्ण जीता था. बता दें कि इससे पहले नरसिंह यादव को रियो ओलिंपिक में भारत का प्रतिनिध्तिव करने के लिए चुना गया था लेकिन डोप टेस्ट में फेल होने के बाद यह फैसला लेना पड़ा.
 
 
सुशील कुमार का टिकट काटकर रियो ओलंपिक के लिए सेलेक्ट हुए नरसिंह यादव डोप टेस्ट के दो-दो राउंड में फेल गए थे. नेशनल एंटी डोपिंग एजेंसी यानी नाडा के टेस्ट में जब नरसिंह के खून में एक प्रतिबंधित स्टीरॉयड मिला तो दोबारा उनके खून का सैंपल लिया गया. दोबारा जांच में भी वो पास नहीं हो पाए. नाडा पैनल में नरिंसह यादव पेश हुए और इस मामले की सुनवाई चली. नाडा आज इस मामले पर फैसला सुनाएगा ताकि नरसिंह यादव को लेकर मामला साफ हो सके.