नई दिल्ली. डोप टेस्ट में फेल होने के बाद पहलवान नरसिंह यादव ने अपने खिलाफ साजिश करने वालों पर जोरदार हमला बोला है. नरसिंह ने कहा है कि उनके खिलाफ साजिश की गई है. उन्होंने कहा कि उन्हें ओलंपिक में जाने से रोकने के लिए डोपिंग मामले में फंसाया गया है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
नरसिंह ने कहा कि कुछ लोग शुरू से ही उन्हें ओलंपिक में जाने से रोकने का प्रयास कर रहे थे, इसके लिए वे लोग कोर्ट तक पहुंच गए और जब वहां भी कुछ नहीं हुआ तो डोप टेस्ट में फंसा दिया. इसके अलावा नरसिंह ने इस मामले में सीबीआई जांच की मांग की है.
 
उन्होंने कहा, ‘कुछ लोग मुझे रियो जाने से रोकना चाहते हैं इसलिए मुझे डोपिंग में फंसाया गया है. मैं चाहता हूं कि इस मामले की सीबीआई जांच की जाए.’
 
मोदी से की अपील
 
नरसिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इस मामले में जांच कराने की अपील की है. नरसिंह ने कहा है कि वह चाहते हैं कि मोदी इस मामले में जांच कराएं और उन्हें रियो भेजने में सहायता करें. उन्होंने कहा, ‘मैं ऐसा काम कभी भी नहीं कर सकता हूं, जिससे देश का सिर झुक जाए. इसलिए मैं यह चाहता हूं कि मेरे खिलाफ साजिश करने वालों को सजा दी जाए.’
 
 
नरसिंह का रूममेट भी डोप टेस्ट में फेल
 
नरसिंह यादव के साथ-साथ उसका रुममेट संदीप भी डोप टेस्ट में फेल पाया गया है. नरसिंह यादव के बाद संदीप के भी डोप टेस्ट में नाकाम होने पर भारतीय कुश्ती संघ ने साजिश की आशंका जताई है. डब्ल्यूएफआई के सहायक सचिव विनोद तोमर का कहना है कि शिविर में नरसिंह के साथी के भी सैंपल में एक ही प्रकार के स्टीरॉयड मिला है. जिससे ये साफ जाहिर होता है कि दोनों के खिलाफ कोई साजिश हुई हैं. 
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
बता दें कि नरसिंह और सुशील कुमार में से नरसिंह को रियो ओलंपिक के लिए चुने जाने पर खासा विवाद चल रहा है. सुशील ने भी ओलंपिक में दो बार पदक जीता था. इसके साथ ही सुशील ने भी ओलंपिक में 74 किलोग्राम फ्रीस्टाइल में देश का प्रतिनिधित्व करने का दावा किया था और इसके लिए ट्रायल की मांग की थी लेकिन भारतीय कुश्ती महासंघ ने नरसिंह को चुना. महासंघ ने इस मामले पर कहा था कि नरसिंह ने पिछले साल ही विश्व चैम्पियनशिप में कांस्य पदक जीतकर ओलंपिक कोटा हासिल करने में कामयाबी पा ली थी.