नई दिल्ली. हॉकी के सुपरस्टार और 1980 के मॉस्को ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीत चुकी हॉकी टीम के मेंबर रहे मोहम्मद शाहिद का निधन हो गया है. 56 साल के शाहिद ने बुधवार को गुड़गांव के मेदांता अस्पताल में अपनी आखिरी सांस ली. शाहिद पिछले कुछ दिनों से लीवर और किडनी की बीमारी से जूझ रहे थे. 
 
शाहिद की मौत पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ट्वीट कर दुख प्रकट करते हुए उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की है.
 
वाराणसी में होगा अंतिम संस्कार
 
बता दें कि 29 जुलाई को शाहिद बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी के एसएसएल अस्पताल में भर्ती हुए थे. उन्हें पेट दर्द की शिकायत थी. इसके बाद जब वहां ठीक से इलाज नहीं हो सका तो उन्हें दिल्ली लाया गया. जहां इलाज के दौरान उनका निधन हो गया. रिपोर्ट्स के अनुसार उनके पार्थिव शरीर को अंतिम संस्कार के लिए वाराणसी ले जाया जाएगा.
 
19 साल की उम्र से खेला इंटरनेशनल हॉकी
 
शाहिद 19 साल की उम्र में इंटरनेशनल हॉकी खेलने लगे थे. उनका पहला इंटरनेशनल मैच फ्रांस के खिलाफ जूनियर वर्ल्ड कप में था. इसके अलावा शाहिद 1982 के एशियन गेम्स में रजत पदक और 1986 के एशियाड खेलों में कांस्य पदक जीतने वाली भारतीय हॉकी टीम का भी हिस्सा थे.
 
बेहतरीन ‘ड्रिब्लर’ के रूप में याद
 
1981 के अर्जुन अवार्ड विजेता शाहिद हॉकी के बाद रेलवे में नौकरी पाने में कामयाब रहे थे. मोहम्मद शाहिद देश की ओर से हॉकी खेलने वालों में बेहतरीन ‘ड्रिब्लर’ के रूप में याद किए जाते हैं.