नई दिल्ली. अर्जेंटीना और बार्सिलोना के स्टार फुटबॉल खिलाड़ी लियोनेल मेसी को स्पेन में टैक्स में हेराफेरी के मामले में 21 महीने क़ैद की सज़ा सुनाई गई है. इस सजा के खिलाफ मेसी स्पेनीस सुप्रीम कोर्ट में अपील करेंगे.  लियोनेल मेसी और उनका वित्तीय कामकाज संभालने वाले उनके पिता पर 2007 और 2009 के बीच स्पेन में 45 लाख डॉलर (लगभग 30 करोड़ रुपए) की धोखाधड़ी का आरोप है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
हालांकि मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, इसके लिए उन्‍हें जेल में नहीं जाना पड़ेगा. उन पर करीब 15 करोड़ रुपए का जुर्माना भी लगाया गया है. कोर्ट ने यह सजा तीन टैक्स के मामलों में सुनाई है. इंटरनेशनल लेवल पर वह अर्जेंटीना के लिए खेलते थे जबकि क्लब और लीग लेवल पर स्पेन के बार्सिलोना के लिए खेलते हैं. 
 
जानकारी के अनुसार, मेसी को अपनी छवि गढ़ने के मामले में टैक्‍स चोरी को दोषी ठहराया गया. स्‍पेन के केटेलोनिया कोर्ट ने उन्‍हें 21 माह की सजा सुनाई है. चूंकि यह सजा दो साल से कम की है और न तो लियोनेल मेसी तथा न ही उनके पिता जोर्गे का कोई आपराधिक रिकॉर्ड रहा है, इसलिए उन्‍हें जेल जाने की जरूरत नहीं होगी. 
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
अपने बचाव में मेसी ने कहा था कि उन्हें और उनके पिता को टैक्‍स नियमों के बारे में जानकारी नहीं थी हालांकि स्‍टेट अटार्नी मारिया माजा ने इस दावे को लगभग खारिज करते हुए महान फुटबॉलर की माफिया बॉस से तुलना की.