लंदन. अंतर्राष्ट्रीय टेनिस महासंघ (आईटीएफ) ने रूस की महिला टेनिस खिलाड़ी मारिया शारापोवा को डोप टेस्ट में फेल पाए जाने के कारण दो साल के लिए बैन कर दिया है. शारापोवा को जनवरी में हुए आस्ट्रेलियन ओपन के दौरान बैन पदार्थ मेलडोनियम के सेवन का दोषी पाया गया था. इसके बाद मार्च में उन पर अस्थायी बैन लगा दिया गया था. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
मेलडोनियम को एक जनवरी को बैन कर दिया गया था. शारापोवा ने कहा था कि वह स्वास्थ्य कारणों से 2006 से इस पदार्थ का सेवन कर रही थीं. पांच बार ग्रैंड स्लैम जीत चुकीं शारापोवा ने कहा है कि वह इस फैसले के खिलाफ अपील करेंगी.
 
आईटीएफ ने बयान में कहा, “2016 डोपिंग रोधी कार्यक्रम के अनुच्छेद 8.1 के तहत नियुक्त किए गए स्वतंत्र न्यायाधिकरण ने मारिया शरापोवा को डोपिंग रोधी नियम के अनुच्छेद 2.1 का दोषी पाया है. इसी के चलते उन्हें अयोग्य घोषित किया जाता है और 26 जनवरी 2016 से दो साल के लिए बैन किया जाता है.” शारापोवा को इसी साल अगस्त में होने वाले रियो ओलिम्पक की रूस की टीम में शामिल किया गया था. पहले यह साफ नहीं था कि वह ओलम्पिक में हिस्सा नहीं ले पाएंगी या नहीं. 
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
शारापोवा ने अपने फेसबुक अकाउंट पर लिखा, “आईटीएफ न्यायाधिकरण द्वारा मेरे ऊपर लागए गए दो साल के बैन से यह सिद्ध होता है कि मैंने यह जानबूझ कर नहीं किया था. न्यायाधिकरण ने अपनी जांच में पाया है कि मैंने उस पदार्थ का सेवन अपने प्रदर्शन में सुधार के लिए नहीं किया था.” उन्होंने लिखा, “न्यायाधिकरण ने कहा है कि मैंने जानबूझ कर डोपिंग के नियमों का उल्लंघन नहीं किया है, इसलिए मैं इस दो साल के अनुचित बैन को बर्दाश्त नहीं करूंगी.”