नई दिल्ली. बॉलीवुड सुपरस्टार सलमान खान को भारत की ओर से रियो ओलंपिक का गुडविल एंबेसडर बनाने का विरोध किया जा रहा है. भारतीय ओलंपिक सघ(आईओए) उतर ने अपले फैसले का बचाव किया.
 
आईओए के महासचिव राजीव मेहता ने रविवार को अपने बयान में कहा कि हम काफी खुश हैं और इस देश में ओलम्पिक खेलों के समर्थन के लिए सलमान के शुक्रगुजार हैं. यह फैसला केवल एक इशारा है और इसे किसी भी मौद्रिक विचार में शामिल नहीं किया जाना चाहिए.
 
मेहता के अनुसार, सलमान को गुडविल एंबेसडर बनाने का लक्ष्य देश में ओलम्पिक खेलों की ओर अधिक से अधिक लोगों का ध्यान खींचना है. आईओए के अधिकारी ने कहा कि वह देश के सबसे बड़ी हस्तियों में से एक हैं और हमारा मुख्य लक्ष्य उनके जरिए ओलम्पिक खेलों की ओर अधिकतम लोगों का ध्यान केंद्रित करना है.
 
बता दें कि इस फैसले की भारतीय पहलवान योगेश्वर दत्त सहित खेल जगत की कई अन्य हस्तियों ने आलोचना की. योगेश्वर ने शनिवार को आईओए के इस फैसले के खिलाफ आवाज उठाते हुए कहा था कि एक राजदूत का क्या लक्ष्य होता है? देश के लोगों को बेवकूफ बनने से रोकना. पी.टी. ऊषा, मिल्खा सिंह जैसे बड़े खेल जगत के सितारे हैं, जिन्होंने कठिन समय में देश के लिए मेहनत की. खेल क्षेत्र में एसे राजदूत ने क्या किया है?