नई दिल्ली. केंद्र सरकार ने राजीव गांझी खेल योजना का नाम बदल दिया है. अब इसे खेलो इंडिया के नाम से जाना जाएगा. खेल मंत्री सर्बानंद सोनेवल ने कहा है कि नाम बदलने में एक नई सोच है. जो देश को एकजुट करेगी.
 
उन्होंने कहा, ‘नाम बदलने का राजनीति से कोई लेना देना नहीं है. पहले प्रतिस्पर्धा का माहौल नहीं बन पा रहा था. आज पूरा देश एक हो रहा है’. सर्बानंद ने कहा कि खेलो इंडिया से देश को बढ़ावा मिलेगा और खिलाड़ियों में खेल भावना बढ़ेगी. 
 
राजीव गांधी खेल अभियान योजना की शुरुआत कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी और तत्कालीन खेल मंत्री जीतेंद्र सिंह ने साल 2014 में की थी. लेकिन भारत सरकार ने इस योजना को खेलो इंडिया में शामिल कर लिया है.