मीरपुर. एशिया कप का फाइनल मुकाबला रविवार को भारत और बांग्लादेश की टीमों के बीच शेर-ए-बांग्ला नेशनल स्टेडियम में खेला जाएगा. लगातार चार जीत दर्ज कर शानदार फॉर्म में चल रही भारतीय टीम एशिया कप में छठा खिताब जीतने का प्रयास करेगी. पहली बार टी-20 फारमेट में खेले जा रहे इस टूर्नामेंट भारतीय टीम को रोकना अभी तक नामुमकिन रहा है. भारत ने अपने सभी चार मैच जीते हैं.
 
टीम के बल्लेबाजों ने अभी तक शानदार बल्लेबाजी की है. टीम की गेंदबाजी खासकर तेज गेंदबाज टीम के लिए उपयोगी साबित हो रहे हैं. युवा जोश और अनुभव से सजी यह भारतीय टीम आने वाले टी-20 विश्व कप में जीत के साथ कदम रखना चाहेगी. 
 
गेंदबाजों में आशीष नेहरा ने अभी तक अपने अनुभव का शानदार इस्तेमाल किया है. वहीं दूसरे छोर से उन्हें युवा जसप्रीत बुमराह का भरपूर साथ मिला है जिन्होंने अपने खेल से सभी को प्रभावित किया है. दोनों ने टीम को शुरुआती सफलता के साथ-साथ अंतिम ओवरों में रन रोकने का भी काम किया है. 
 
भारत के लिए एशिया कप में सबसे सफल गेंदबाज हार्दिक पांड्या रहे हैं. उन्होंने अभी तक खेले गए चार मैचों में सात विकेट लिए हैं. इस हरफनमौला खिलाड़ी ने अंतिम ओवरों में अपने बल्ले से तेजी से रन जोड़ कर टीम में अहम योगदान दिया है. भारतीय बल्लेबाजी ने भी गेंदबाजों का भरपूर साथ दिया है. विराट कोहली ने टीम को हमेशा ही संकट की घड़ी ले निकाला है. वापसी कर रहे युवराज ने भी संकट में अहम पारी खेल अपने पुराने अंदाज में लौटने का संदेश दिया है. 
 
वहीं सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा ने भारत को अच्छी शुरुआत दिलाई है. फाइनल में भी उनसे कमाल करने की उम्मीद रहेगी. शिखर धवन का बुरा फॉर्म कप्तान महेन्द्र सिंह धौनी के लिए थोड़ी चिंता का विषय है. 
 
संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के खिलाफ आराम दिए गए रविचन्द्रन अश्विन, रविन्द्र जडेजा और नेहरा के फाइनल में वापसी की पूरी संभावना है. भारत इस प्रतियोगिता में शुरू से ही जीत की प्रबल दावेदार था लेकिन क्रिकेट में कुछ भी हो सकता है. भारत के सामने वो टीम है जो अपने घर में पहले उसे मात दे चुकी है और एशिया कप में अपना पहला मैच हारने के बाद भी दो दमदार टीमों को हराकर फाइनल में पहुंची है. 
 
बांग्लादेश अपने शानदार खेल से कभी भी उलटफेर कर सकती है. पिछले कुछ सालों में उसने ऐसे कई उलटफेर किए हैं जिसकी किसी को उम्मीद नहीं थी. भारत बेशक मेजबानों को हल्के में लेने की गलती नहीं करेगा. बांग्लादेश के गेंदबाज तस्कीन अहमद और अल अमीन हुसैन नई गेंद से काफी असरदार साबित हुए हैं. वहीं बल्लेबाजी में शब्बीर रहमान और महमुदुल्लाह ने टीम के लिए रन बटोरने का काम काफी अच्छे से किया है. सौम्य सरकार और मोहम्मद मिथुन ने भी बल्ले से शानदार प्रदर्शन किया है. 
 
बांग्लादेश दूसरी बार एशिया कप का फाइनल खेल रहा है. उसकी कोशिश पहली बार की कसक पूरी करने की होगी. इससे पहले बांग्लादेश 2012 में पाकिस्तान से एशिया कप के फाइनल में हार गया था. 
 
भारत पांच बार इस खिताब को अपने नाम कर चुका है और वह चाहेगा कि छठवीं बार खिताब नाम करे. भारत और श्रीलंका पांच-पांच बार एशिया कप जीत चुके हैं.
 
टीमें संभावित: 
भारत: महेन्द्र सिंह धौनी (कप्तान), विराट कोहली, रोहित शर्मा, शिखर धवन, युवराज सिंह, सुरेश रैना, रविन्द्र जडेजा, हार्दिक पांड्या, रविचन्द्रन अश्विन, आशीष नेहरा, जसप्रीत बुमराह.
 
बांग्लादेश: मशरफे बिन मुर्तजा (कप्तान), शाकिब-अल-हसन, सौम्य सरकार, इमरुल कयेस, मुश्फिकुर रहीम, मोहम्मद मिथुन, मोहम्दुल्लाह, शब्बीर रहमान, मुस्ताफिजुर रहमान, अल-अमीन हुसैन, तस्कीन एहमद.