नई दिल्ली. भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के वरिष्ठ अधिकारी राजीव शुक्ला ने शुक्रवार को कहा कि 19 मार्च को टी-20 वर्ल्ड कप के तहत भारत और पाकिस्तान के बीच होने वाला बहुप्रतिक्षित मुकाबला पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत धर्मशाला में ही होगा.
 
शुक्ला ने कहा, “जहां तक मैच की बात है, कार्यक्रम के तहत हम मैच का आयोजन धर्मशाला में ही कराने को लेकर दृढसंकल्प हैं क्योंकि हमें अपने वादे पूरे करने की जरूरत है नहीं तो आईसीसी हमारे खिलाफ सख्त कदम उठा सकता है. राज्य सरकार भी मैच के आयोजन को लेकर हमारे साथ है.” 
 
हिमाचल प्रदेश में कुछ नेता मैच के आयोजन के खिलाफ हैं. साथ ही सैनिक और पूर्वसैनिक भी मैच के आयोजन के खिलाफ हैं. धर्मशाला कांगड़ा जिले में है और यहां से बड़ी संख्या में सैनिक शहीद हुए हैं. इसी मुद्दे को लेकर हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह और बीसीसीआई सचिव अनुराग ठाकुर के बीच बहस छिड़ गई थी. इसके बाद दोनों ने बैठक कर मुद्दे पर चर्चा की थी. 
 
वीरभद्र ने मैच के आयोजन को लेकर सुरक्षा मुहैया कराने में असमर्थता जाहिर करते हुए गृहमंत्री राजनाथ सिंह को पत्र भी लिखा था. प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार ने भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखा था, जिसमें कहा गया था कि मैच का आयोजन धर्मशाला में नहीं होना चाहिए. 
दूसरी तरफ पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) के अध्यक्ष शहरयार खान ने गुरुवार को इसी विवाद के चलते वर्ल्ड कप से नाम वापस लेने की बात कही है. खान ने कहा था कि वह इस बात को लेकर चिंतित हैं कि पाकिस्तानी टीम को भारत में पर्याप्त सुरक्षा नहीं मिलेगी.
 
शुक्ला ने हालांकि कहा है कि पाकिस्तानी टीम को पूरी सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी. उन्होंने कहा, “हम पाकिस्तान क्रिकेट टीम को सुरक्षा मुहैया कराएंगे. सभी खिलाड़ी यहां सुरक्षित रहेंगे. फैसला पीसीबी को करना है.