मुंबई. बीसीसीआई की मुंबई में कल अहम बैठक है. लोढ़ा कमेटी की सिफारिशों पर चर्चा करने के लिए स्पेशल जनरल मीटिंग बुलाई गई है. 11 बजे वर्किंग कमेटी की बैठक होने के बाद यह स्पेशल बैठक शुरू होगी, जिसमें इस बात पर चर्चा की जाएगी कि लोढ़ा कमेटी की सिफारिशों पर बोर्ड का रुख कोर्ट में क्या हो.

बता दें कि लोढ़ा कमेटी ने कई संबंधित लोगों से बात करके सुप्रीम कोर्ट और बीसीसीआई को अपनी सिफारिशें सौंपी हैं जो अगर जस की तस लागू कर दी जाएं, तो बोर्ड की तस्वीर हमेशा के लिए बदल जाएगी. मगर कई अधिकारियों और स्टेट एसोसिएशंस को इस पर आपत्ति है.

सुप्रीम कोर्ट ने बोर्ड को यह बताने के लिए कि 3 मार्च तक का समय दिया है कि इन सिफारिशों को पूरी तरह से लागू करने में उसको क्या परेशानी है. ऐसे में बोर्ड के सामने आगे का रास्ता मुश्किल ही नजर आता है.

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड से कचरा साफ करने के लिए जस्टिस लोढ़ा समिति ने क्रिकेट में सट्टेबाजी को कानूनी मान्यता देने की सिफारिश की है. रिटायर्ड जस्टिस आरएम लोढ़ा ने सट्टेबाजी से क्रिकेटरों और क्रिकेट टीम के मालिकों को बाहर रखने को कहा है.

समिति ने सिफारिश की है कि क्रिकेट मैच पर सट्टा लगाने के लिए सट्टा कंपनियों को लाइसेंस दिया जाए. समिति ने हित का टकराव रोकने के लिए सट्टेबाजी से क्रिकेटरों और क्रिकेट टीम के मालिकों को दूर रखने की भी सिफारिश की है. जस्टिस लोढ़ा कमेटी ने अपनी सिफारिश में कहा है कि बीसीसीआई को सूचना के अधिकार (आरटीआई) के दायरे में लाया जाए.