नई दिल्ली. भारतीय हॉकी टीम के कप्तान सरदार सिंह ने हॉकी इंडिया (एचआई) का समर्थन करते हुए कहा है कि अगर पाकिस्तान के खिलाड़ियों को हॉकी इंडिया लीग (एचआईएल) में खेलना है तो उन्हें पहले अपने बर्ताव के लिए माफी मांगनी पड़ेगी.
 
पाकिस्तान के तीन खिलाड़ियों ने दिसंबर 2014 में भुवनेश्वर में भारत के साथ हुए चैम्पियंस ट्रॉफी सेमीफाइनल मैच में 4-3 की जीत के बाद आपत्तीजनक इशारे किए थे. जिसके बाद हॉकी इंडिया ने पाकिस्तान के खिलाड़ियों पर एचआईएल में खेलने पर रोक लगा दी थी.
 
इस घटना के बाद दो पाकिस्तानी खिलाड़ियों मोहम्मद तौशिक और अली अमजद पर एक-एक मैच का बैन लगा दिया गया था, जबिक एक और खिलाड़ी शफकत रसूल को अंतर्राष्ट्रीय हॉकी महासंघ (एफआईएच) ने फटकार लगाई थी. 
 
पाकिस्तान के कोच शहनाज शेख ने इस घटना पर माफी मांगी थी लेकिन एचआई के मुखिया नरेन्द्र बत्रा ने पाकिस्तान हॉकी महासंघ (पीएचएफ) से माफी मांगने का मांग रखी थी. एचआईएल के चौथे संस्करण की शुरुआत सोमवार से हो रही है.
 
जेपी पंजाब वॉरियर्स के कप्तान सरदार ने कहा है कि पाकिस्तान के खिलाड़ी अगर एचआईएल में खेलना चाहते हैं तो उन्हें पहले माफी मांगनी पड़ेगी. उन्होंने कहा, “उन्होंने जो चैम्पियंस ट्रॉफी में किया था वह बर्दाशत करने वाली बात नहीं है और जब तक वह माफी नहीं मांगते उन्हें एचआईएल में खेलने की अनुमति भी नहीं मिलनी चाहिए.”