मुंबई. मुंबई क्रिकेट एसोसिएशन की तरफ से आयोजित एचटी भंडारी कप इंटर-स्‍कूल क्रिकेट टूर्नामेंट में क्रिकेटर प्रणव धनावडे ने मंगलवार को 1,000 रन का जादुई आंकड़ा पार कर लिया है. वे 1009 रन बनाकर नाबाद रहे.

प्रणव ने सोमवार को ही अपनी इस बेमिसाल पारी में नाबाद 652 रन बनाकर 117 साल पुराना रिकार्ड तोड़ दिया था. प्रणव ने अपनी 1009 रनों की पारी में मात्र 323 गेंदों का सामना किया. अपनी पारी में उन्होंने 129 चौके और 59 छक्के लगाए, जो एक रिकार्ड है. प्रणव का स्ट्राइक रेट 312.38 रहा. वो इस पारी के दौरान 395 मिनट तक पिच पर डटे रहे.

तोड़ दिया 117 साल पुराना रिकार्ड

प्रणव के 1000 रन पूरे होने के थोड़ी देर बाद ही गांधी स्‍कूल ने 1465 रन बनाकर पारी घोषित कर दी है. इससे पहले 1899 में इंग्लैंड के पूर्व बल्लेबाज आर्थर कोलिंस ने 628 रन बनाए थे. इस दौरान उन्होंने 78 चौके और 30 छक्के जड़े थे.

प्रणव के पिता हैं ऑटो ड्राइवर

युवा खिलाड़ी 15 वर्षीय प्रणव धनावडे के पिता कल्याण में ऑटो ड्राइवर हैं. जाहिर है, प्रणव के लिए क्रिकेट में करियर बनाना दूसरों की तुलना में ज्यादा मुश्किल है, लेकिन यह धमाकेदार पारी उनको गुमनाम क्रिकेटर से रातों-रात उभरता हुआ स्टार खिलाड़ी बना सकती है.

पृथ्वी शॉ का रिकॉर्ड तोड़ा

पहले दिन के खेल की समाप्ति पर प्रणव धनावडे 652 और सिद्धेश पाटिल 100 रन बनाकर खेल रहे थे. उनके साथी और सलामी बल्‍लेबाज आकाश सिंह ने भी 173 रनों की पारी खेली. मैच के पहले ही दिन 652 रनों की रिकॉर्ड पारी खेलते हुए प्रणव ने मुंबई के पृथ्वी शॉ के 546 रनों के रिकॉर्ड को तोड़ा था.

कोच को दिया श्रेय

अपनी पारी के बाद प्रणव ने कहा कि मुझे पृथ्वी के रिकॉर्ड के बारे में पता था, इसलिए उस स्कोर के करीब पहुंचकर मैं थोड़ा ध्यान से खेला. मेरी कामयाबी में मेरे कोच हरीश शर्मा का बड़ा योगदान है.