नई दिल्ली: 19 साल का ये लड़का होटल की 9 वीं मंजिल की छत से लटका हुआ है, इसके दोनों पैर नीचे हवा में लटक रहे हैं. जान बचाने के लिए इसने दोनों हाथों से बिल्डिंग की दीवार को कसकर पकड़ रखा है. थोड़ी देर बाद इसने जोर लगाया और अपने दायें पैर को उठाकर छत तक पहुंचने की कोशिश की. लेकिन ये कोशिश नाकाम हो गई.
 
वीडियो में लोगों के चिल्लाने की आवाज आ रही है. शायद लड़के को यूं लटके देखकर लोगों के होश उड़े हुए हैं. अचानक इस लड़के ने दोबारा जोर लगाया और छत तक पहुंचने की कोशिश की. लेकिन जान बचाने की ये कोशिश भी बेकार चली गई. अब तक 12 सेकंड हो चुके हैं. जिंदगी बचाने के लिए जद्दोजहद की ऐसी तस्वीर हो नहीं सकती. एक बार फिर जोर लगाया और इस बार उसका पैर छत की दीवार तक पहुंच ही गया.
 
वीडियो रोककर अगर आपको दिखाएं तो देखिए ऐसा लग रहा है कि इसका पैर छत की दीवार से ज्यादा ऊपर उठ चुका है और लगा शायद इस बार ये ऊपर चढ़ जाएगा. लेकिन फिर ये भी कोशिश नाकाम हो गई. अब लड़के की पकड़ पहले से ज्यादा कमजोर हो गई है. फिर भी उसने दोनों हाथों से दीवार पकड़े रखी है. एक बार फिर कोशिश करता है लेकिन शायद अब तक इसकी हिम्मत जवाब दे रही है.
 
अचानक ये दोनों हाथों से छत की दीवार को पकड़कर पूरी तरह लटक जाता है. शायद इसके दिमाग में हो कि थोड़ा रेस्ट लेकर फिर दोबारा कोशिश करें लेकिन ये क्या धीरे-धीरे छत से इसकी पकड़ ढीली होती है और देखते देखते छत से इसका हाथ छूट जाता है.
 
आपको बता दें 9 वीं मंजिल से गिरने से लड़के की मौके पर ही मौत हो जाती है. लेकिन सवाल इस लड़के पर है . सवाल यहां खड़े उन तमाम लोगों पर है जो चिल्ला तो रहे हैं लेकिन बचाने की कोशिश नहीं करते दिख रहे. बताया जा रहा है कि वीडियो भले 37 सेकंड का हो लेकिन पूरे 10 मिनट तक ये लड़का यूं ही मौत से लड़ता रहा.
 
अगर कोशिश की गई होती तो शायद इसकी जान बच सकती थी. लेकिन सवाल उन तमाम लोगों से है जो सेल्फी के लिए किसी भी हद तक जाने को तैयार रहते हैं. सेल्फी लें लेकिन जान को जोखिम में डालकर सेल्फी लेना कहीं से भी जायज नहीं ठहराया जा सकता है.