नई दिल्ली. हिंदुस्तान का एक ऐसा मंदिर जिससे पाकिस्तान की सेना भी खौफ खाती है. आस्था और विश्वास की ऐसी शक्ति जिसके आगे पाकिस्तान के टैंक भी नतमस्तक हो जाते हैं. एक ऐसा सुरक्षा कवच जिसे बरबाद करने के लिए पाकिस्तान की सेना ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी पर उसका बाल भी बांका नहीं हुआ. थक-हार कर पाकिस्तानी सेना ने उस शक्ति के आगे घुटने टेक दिए.
 
4 दिसंबर 1971 की वो रात वाकई कयामत की रात थी जब पाकिस्तान की 51 इन्फैंट्री ब्रिगेड ने राजस्थान की सरहद लांघते हुए लोंगेवाला पोस्ट पर जबर्दस्त हमला कर दिया. 
 
पाकिस्तान का प्लान था भारत के लोंगेवाला पोस्ट से होते हुए रामगढ़ और जैसलमेर पर कब्जा करने की, लेकिन मेजर कुलदीप सिंह चांदपुरी के नेतृत्व में 23 पंजाब बटालियन की अल्फा कंपनी ने पाकिस्तान के मंसूबे पर पानी फेर दिया. अल्फा कंपनी के सिर्फ 120 जवानों ने पाकिस्तान की भारी भरकम फौज को पूरी रात आगे नहीं बढ़ने दिया. सिर्फ सात घंटों की गगनभेदी जंग ने पाकिस्तान को पस्त कर दिया और बाकी की कसर अहले सुबह वायुसेना के हंटर फाइटर जेट ने पूरी कर दी.
 
लोंगेवाला पोस्ट पर मिली वो शानदार जीत भारत के लिए ऐतिहासिक थी और दुनिया के लिए सबसे बड़ा अचंभा..। अचंभा इसलिए क्योंकि ऐसा दूसरी बार हुआ था जब पाकिस्तान के इतने घातक हमले को भारत के जांबाज सैनिकों ने नाकाम कर दिया था.
 
वीडियो पर क्लिक करके देखिए कि आखिर कैसे पाकिस्तान के खिलाफ ‘माता’ ने किया सबसे बड़ा चमत्कार.