नई दिल्ली. बारामूला में 6 आतंकियों ने 46 राष्ट्रीय राइफल्स और बीएसएफ के कैम्पों पर 3 अक्टूबर रात हमला कर दिया था. खुफिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, हमले के पीछे पाक की इंटेलिजेंस एजेंसी आईएसआई के स्लीपर सेल या फिर घाटी में पहले से मौजूद आतंकियों का हाथ हो सकता है.
 
यह हमला पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक का बदला लेने के लिए किया गया. इसमें एक जवान शहीद हो गया. एक आतंकी के झेलम नदी में कूदकर भाग निकलने की खबर है. 
 
बता दें कि बारामुला में 6 घंटे का ऑपरेशन चला था जिसमें जवानों ने हमला करने वाले तीनों आतंकियों को मार गिराया था. पंपोर में 10 अक्टूबर को EDI बिल्डिंग में हुई मुठभेड़ में 57 घंटे तक जवानों और आतंकियों में जंग चली थी. दो आतंकियों को मारने के बाद ही पूरा ऑपरेशन खत्म हुआ.