नई दिल्ली. आज जो हम आपको दिखाने जा रहे हैं वो इससे पहले टीवी पर आपने पहले कभी नहीं देखा है. पाकिस्तान पर हिंदुस्तान ने सर्जिकल स्ट्राइक पिछले महीने किया. लेकिन आज से पांच साल पहले हिंदुस्तान ने पाकिस्तान के खिलाफ ऐसा ऑपरेशन किया था .
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
जिसके बारे में सोचकर आज भी पाकिस्तान का दिल दहल जाता है. ऑपरेशन जिंजर में हिंदुस्तान ने पाकिस्तान की गर्दन काट दी थी. आइये आपको सेकंड दर सेकंड उस ऑपरेशन के बारे में बताते हैं. दुनिया ने इससे पहले ना कभी ऐसा सुना था और ही कभी किसी ने देखा था. पाकिस्तानी रेंजर की चौकी पर पाकिस्तानी सैनिकों को गाजर मूली की तरह काटा गया. पाकिस्तानी सैनिकों को उनके बिल में चूहों की तरह ढूंढ ढूंढकर मारा गया.
 
जब पहली बार सर्जिकल स्ट्राइक की ख़बर आई तो हर हिन्दुस्तानी का सीना गर्व से चौड़ा हो गया लेकिन इस सर्जिकल स्ट्राइक से पहले भी एक स्ट्राइक हुई थी. इसका खुलासा अभी हुआ है. पाकिस्तान जब शांति की भाषा नहीं समझा तो उसे उसी के अंदाज से भी ज्यादा खतरनाक अंदाज़ में ऐसा समझाया कि पाकिस्तानी लाशों पर कोई रोने वाला नहीं बचा.
 
ये हिंदुस्तान का वो पराक्रम था जिसे देखकर पाकिस्तानी सेना और पाकिस्तानी सरकार सबको सांप सूंघ गया. अंग्रेजी अखबार द हिंदू की रिपोर्ट के मुताबिक इस सर्जिकल स्ट्राइक से पांच साल पहले साल हिंदुस्तान की सेना ने एलओसी के पार ट्रांस बार्डर स्ट्राइक किया.
 
जो इतना खतरनाक था कि पाकिस्तानी सेना उस जख्म से कई सालों तक नहीं उबर सकी थी. द हिंदू के मुताबिक इस ट्रॉंस बार्डर ऑपरेशन को 2011 के अगस्त महीने में अंजाम दिया गया था. सबसे बड़ा बदला. सेना का सबसे बड़ा बदला. साल 2011 के जुलाई में पाकिस्तान ने कुपवाड़ा में दो भारतीय सैनिकों के सिर काटे थे.
 
उसी के बाद हिंदुस्तानी सेना ने पाकिस्तान को कड़ा सबक सिखाने के लिए ऑपरेशन जिंजर नाम की ये कार्रवाई की थी… कार्रवाई 5 साल पहले हुई थी खुलासा अब हुआ है. क्या थी कार्रवाई कैसे दिया गया अंजाम. कितने बजे बम लगाया गया. कितने बजे चली गोलियां. सारा ऑपरेशन टीवी पर पहली बार देखिए सिलसिलेवार ढंग से सिर्फ इंडिया न्यूज पर