नई दिल्ली. दुनिया का सबसे बेहतरीन ट्रांस्पोर्ट एयरक्राफ्ट है C-17 ग्लोबमास्टर. ग्लोबमास्टर बड़ी तादात में टैंक और सेना की टुकड़ा ले जाने में सक्षम है. चीन और पाक सीमा पर जारी तनाव के बीच सी-17 ग्लोबमास्टर के वायुसेना में शामिल होने से भारत और वायुसेना की ताकत कई गुना बढ़ गई है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
वायुसेना प्रमुख एन के ब्राउन ने बताया कि ग्लोबमास्टर कारगिल, लद्दाख और अन्य उत्तरी और उत्तर पूर्वी सीमाओं पर यह आसानी से उतर सकता है. सीमा के अलावा देश में कहीं भी आपात काल जैसी स्थिति बनने पर यह अपनी ताकत दिखाएगा.इसके अलावा लैंडिंग में परेशानी होने की स्थिति में इसमें रिवर्स गियर भी दिया गया है.
 
विमान चार इंजनों से लैस है। यह विश्व के बड़े मालवाहक जहाजों में से एक है. 81वीं स्क्वार्डन के ग्रुप कैप्टन को ‘गोल्डन की’ देकर विमान को भारतीय वायुसेना में शामिल किया. इस स्क्वार्डन को स्काईलॉर्ड्स नाम दिया गया है.