नई दिल्ली. भारत के अभिन्न अंग कश्मीर को हथियाने की पाकिस्तान ने अब तक जितनी भी नाकाम कोशिशें की उसे हिन्दुस्तान बर्दाश्त करता आया लेकिन उरी में सेना के कैंप पर हुए आतंकी हमले के बाद अब पाकिस्तान की खैर नहीं. कश्मीर को हथियाने का नापाक प्लान दिमाग में पाले पाकिस्तान ने यूं तो सारी सीमाएं पहले ही लांघ दी थी, लेकिन उरी के हमले ने सारी सीमाएं तोड़ दी. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बीते 26 सालों के दौरान ये पहला मौका है जब जम्मू-कश्मीर में सेना के बेस पर पाकिस्तान प्रायोजित इतना बड़ा आंतकी हमला हुआ है.18 तारीख को हुए इस हमले में हिन्दुस्तान के 18 जवान शहीद हो गए और 19 जवान बुरी तरीके से जख्मी. पिछले साल जुलाई में पुंछ सेक्टर में पाकिस्तानी रेंजरों की मदद से आतंकियों ने हमारे वीर जवान हेमराज और सुधाकर का सिर काट लिया. 
 
देश के प्रधानमंत्री मोदी के आवास पर हुई हाई लेवल मीटिंग हुई. इसमें देश के गृह मंत्री राजनाथ सिंह, वित्तमंत्री अरूण जेटली, रक्षामंत्री मनोहर पर्रीकर और अजीत डोभाल भी हैं. इस उच्चस्तरीय बैठक में पाकिस्तान के  खिलाफ हर उस रणनीति पर बात हुई है जिसमें पाकिस्तान के हौसलों को पस्त किया जा सके..सबसे खास तो ये कि इसी मीटिंग में ये तय हुआ है कि उरी का जवाब इतनी जोर से दिया जाएगा कि पाकिस्तान की फिर कभी आंखे उठाने की हिम्मत नहीं जुटा पाए.
 
पाकिस्तान को ये हमला इतना भारी कितना भारी पड़ेगा इसका अंदाजा वो अभी तक नहीं लगा पाया हालांकि इस खतरे को पाकिस्तान की आवाम बखूबी महसूस कर रही है लेकिन भारत के पास पाकिस्तान को बर्बाद करने का सिर्फ बलूच प्लान नहीं है. 
 
इंडिया न्यूज की खास पेशकश ‘इस हफ्ते‘ में देखिए पाकिस्तान को हर तरफ से बर्बाद करने की कहानी
 
वीडियो पर क्लिक करके देखिए पूरा शो