नई दिल्ली. याचना नहीं अब रण होगा. जी हां, कश्मीर में हिन्दुस्तानी सैनिकों के हत्यारे आतंकियों को अब चुन-चुन कर ठिकाने लगाने का वक्त आ गया है. उरी सेक्टर में हुए आतंकी हमले के बाद प्रधानमंत्री, गृहमंत्री और रक्षामंत्री समेत देश की सेना और अवाम सब यही चाहते हैं कि आतंकवादियों और उन्हें पनाह देने वाले पाकिस्तान को करारा जवाब दिया जाए.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
सूत्रों की मानें तो इस हमले के जिम्मेदार आतंकियों को सबक सिखाने के लिए सीमा पार सर्जिकल स्ट्राइक की जा सकती है. हिन्दुस्तान में दहशत और खौफ का तांडव करने वाले पाकिस्तान सावधान. भारत में आतंक और हिंसा को बढ़ावा देने वाले पाकिस्तान होशियार.
 
देश के जाबांज सैनिकों से खून की होली खेलने वाले पाकिस्तान खबरदार. मासूम और बेकसूर लोगों की जान के दुश्मन आतंकियों को पनाह देने वाले पाकिस्तान को अब उसी की जुबान में जवाब देने का वक्त आ गया है.
 
कश्मीर के उरी सेक्टर में आर्मी बेस पर आतंकी हमले के बाद ये बात एक बार फिर साफ हो गई है कि अगर पड़ोसी देश पाकिस्तान में पल रहे दहशतगर्दों पर लगाम लगानी है तो उन्हें उन्हीं की जमीन पर सबक सिखाना होगा. अगर सीमा पार से भारत में लगातार आ रही आतंकियों की खेप पर काबू पाना है तो उन्हें उन्हीं के मुल्क में दफन करना होगा. अगर देश को दुश्मनों के नापाक हमले से बचाना है तो उन्हें उन्हीं के घर में घुसकर मटियामेट करना होगा.
 
इंडिया न्यूज़ के खास कार्यक्रम में देखिए उरी हमले की पूरी कहानी.