नई दिल्ली. क्या कश्मीर में हुए आतंकी हमले को रोका जा सकता था ? क्या उरी सेक्टर में शहीद हुए सैनिकों की जान बचाई जा सकती थी ? ये सवाल इसलिए क्योंकि बारामुला के जिस उरी सेक्टर में आर्मी बेस पर आतंकी हमला हुआ वो इलाका एलओसी से सटा हुआ है और वहां चौबीसों घंटे सैनिकों की सख्त पहरेदारी रहती है, तो फिर इतनी चौकसी के बावजूद वहां सेना के कैंप में कैसे घुसे आतंकी ? 
 
ख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
ये सवाल इसलिए भी अहम है क्योंकि कुछ दिन पहले ही इंडिया न्यूज ने उरी सेक्टर में एलओसी की पड़ताल की थी और देश को आगाह किया था कि सीमा पार से आने वाले आतंकी कभी भी किसी बड़ी वारदात को अंजाम दे सकते हैं.
 
बेशक पाकिस्तानी दहशतगर्दों के इस पाप पर पलटवार जरूरी है. जिस तरह आतंकियों ने सोये हुए सेना के जवानों पर कायरों की तरह छिप कर वार किया उसका मुंहतोड़ जवाब देना जरूरी है. जी हां, कश्मीर के जिस उरी सेक्टर में सेना पर आतंकी हमला हुआ वहां पाकिस्तानी सेना का पाप पहले से ही पल रहा था. 
 
इंडिया न्यूज़ के खास कार्यक्रम में देखिए उरी हमले पर स्पेशल कवरेज.