नई दिल्ली. जब से स्वतंत्रता दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण में बलूचिस्तान की बात की है तब से बलूचिस्तान के लोगों का हौसला बुलंद हो गया है, लेकिन पाकिस्तान बौखला गया है क्योंकि पाकिस्तान 1948 से बलूचिस्तान पर अत्याचार कर रहा है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बता दें कि 1948 में ही पाकिस्तान ने बलूचिस्तान पर कब्जा किया हुआ है. एक रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान ने अब तक 19 हजार लोगों को मौत के घाट उतार दिया है जिनमें कई बलूच नेता भी शामिल हैं. बलूचिस्तान के 5 फीसदी हिस्से पर पाक का कब्जा है. 95 फीसदी पर कबीलाई लोगों का कब्जा है.
 
आजादी के लिए बलूचिस्तान के कई संगठन पाकिस्तान सरकार के खिलाफ हैं. वहां के लोग पाक के कानून को नहीं मानते हैं. पाकिस्तान बलूचिस्तान को कब्जाने की फिराक में इसलिए है क्योंकि वहां भारी मात्रा में तेल, प्राकृतिक गैस और अन्य प्राकृतिक संसाधन मौजूद हैं. सवा सौ करोड़ की आबादी वाला बलूचिस्तान अब हर कीमत पर पाकिस्तान से आजादी चाहता है.
इंडिया न्यूज के खास शो इस हफ्ते में देखिए बलूचिस्तान के बागी !