नई दिल्ली. कुछ दिन पहले तक कश्मीर का मुद्दा भारत और पाकिस्तान के लिए सबसे बड़ा मुद्दा था लेकिन जब से PoK में पाकिस्तान के खिलाफ प्रदर्शन हुआ और केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने हुंकार के साथ कहा कि अब बात होगी तो PoK पर होगी, कश्मीर पर होगी. तब से PoK का मुद्दा सबसे ऊपर आ गया है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी कश्मीर मामले पर आयोजित सर्वदलीय बैठक में पाकिस्तान को करारा संदेश देते हुए कह दिया है कि PoK भी भारत के जम्मू-कश्मीर का हिस्सा है. PoK से निर्वासित लोगों से संपर्क शुरू कर पाकिस्तान को बेनकाब करने की जरूरत है. उन्‍होंने कहा कि जम्‍मू-कश्‍मीर के चार हिस्‍से हैं. कश्‍मीर, लद्दाख, जम्‍मू और पाकिस्‍तान अधिकृत कश्‍मीर.
 
वहीं PoK के लोगों का भी कहना है कि उनके ऊपर पाकिस्तान हर वक्त अत्याचार करता है. उन्हें उचित मेहनताना नहीं मिलता है. पाकिस्तान अधिकृत के लोगों ने अब स्वर में पाकिस्तान से आजादी की मांग की है.
 
वहीं बलूच नेशनल मूवमेंट के प्रवक्ता हम्माल हैदर ने कहा कि पहली बार किसी भारतीय प्रधानमंत्री ने बलूचिस्तान के लोगों के समर्थन किया है जो कि बड़ा फैसला है. बलूचिस्तान की आजादी की लड़ाई में समर्थन देने के लिए हम पीएम मोदी के बयान का समर्थन करते हैं. 
 
वर्ल्ड बलूच वूमेंस फोरम की प्रमुख नाइला कादरी ने कहा कि पाक अधिकृत कश्मीर (PoK) और बलूचिस्तान के लोगों के समर्थन करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हम शुक्रिया अदा करते हैं. आपने गिलगित-बाल्टिस्तान और PoK के लोगों की दिक्कत समझने की कोशिश की. उम्मीद है कि आप सितंबर में होने वाले संयूक्त राष्ट्र की बैठक में जरूर उठाएंगे.
 
इसी मामले पर इंडिया न्यूज की टीम ने पूरी तहकीकात की है. वीडियो में देखें पूरा शो.