नई दिल्ली. बुनियादी सुविधाओं से भी महरुम हैं भारत के एक करोड़ 80 लाख बच्चे. आजादी के 69 साल बाद भी सड़क पर है हिंदुस्तान का 10 फीसदी बचपन. यूनिसेफ के सर्वे के मुताबिक साल 2011 में हिंदुस्तान में 4 लाख बच्चे सड़कों पर थे और धीरे-धीरे इनका आंकरा बढ़ा ही हैं.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
सर्वे के मुताबिक एक करोड़ 80 लाख बच्चे सामान बेचकर भीख मांगते हैं. दिल्ली में 51 हजार बच्चें सड़क पर है. राज्या और केंद्र सरकार की तमाम योजनाओं के बावजूद लगभग 2 करोड़ बच्चे सड़क पर हैं. पूरे देश में स्वतंत्रता दिवस के तैयारियों ज़ोरों पर हैं, लेकिन इन बच्चों बेघर बच्चों की खबर किसी सरकार या एनजीओ को नहीं है.
 
बता दें कि सड़क पर तिरंगा बेचने वाले 99% बच्चों के लिए तिरंगा एक समय की रोटी है. तिरंगे की शान पर रोटी की मजबूरी भारी है. इसी पर है इंडिया न्यूज का खास शो ‘तिरंगे के महत्व की सबसे बड़ी पड़ताल’. वीडियो पर क्लिक कर देखिए पूरा शो