नई दिल्ली. दुनिया की सबसे पुरानी नगरीय व्यवस्था माने जाने वाले प्राचीन शहर मोहनजोदड़ो की कहानी अपने आप में विशिष्ट है. लेकिन सबसे हैरान करने वाली है बात यह है कि इस सभ्यता से भी पुरानी एक सभ्यता हरियाणा में मिली है जो अपने आप को इससे पुरानी होने का दावा किया है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
इस सभ्यता को महाभारत काल की बताई जा रही है. अभी तक मोहनजोदड़ो को ही दुनिया की सबसे पुरानी सभ्यता मानते थे क्योंकि मोहन जोदड़ो का काल 4000 ईसा पूर्व माना जाता है. बता दें कि राखीगढ़ी में मिली सभ्यता का काल 5000-5500 ईसा पूर्व का बताया जा रहा है.
 
भारतीय पुरातत्व विभाग के मुताबिक राखीगढ़ी में खुदाई ‘खीगढ़ी’ का क्षेत्रफल 550 हेक्टेयर से ज्यादा का बताया जा रहा है, जबकी मोहनजोदड़ो का क्षेत्रफल 300 हेक्टेयर थे. राखीगढ़ी का क्षेत्रफल 550 हेक्टेयर से ज्यादा बताया जा रहा है. बता दें कि राखीगढ़ी की सभ्यता दुनिया की सबसे पुरानी सभ्यता बन सकती है.
 
पाकिस्तान के सिंध प्रात में सिंधु नदी के किनारे बसे क़रीब चार हज़ार साल पुराने इस शहर की खोज अभी महज़ 100 साल पहले ही हुई थी. यह दुनिया के प्रचीनतम सभ्यताओं में से एक सिंधु घाटी सभ्यता का एक प्रमुख शहर रहा है. मोहनजोदड़ो का मतलब होता है ‘मुर्दों का टीला.’
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
मोहनजोदड़ो योजनाबद्ध तरीके से बनाया गया एक शानदार शहर था जिसमें अविश्वसनीय तरीके से सारी सुख-सुविधाएं मौजूद थीं. यहां बने घरों में पक्की ईंटों से बने स्नानघर और शौचालय थे.
 
इसमें जल निकासी के लिए नाले बने हुए थे जिसे ईंटो से ढका गया था. ये नाले सड़क के बीच से गुज़रते थे. इंडिया न्यूज के शो EXCLUSIVE REPORT में देखेंगे कि मोहनजोदड़ो से भी पुरानी सभ्यता भारत में कैसे विकसित हुई और इसमें क्या है खास. वीडियो पर क्लिक कर देखें पूरा शो