मथुरा. भारतीय सेना ने मथुरा में यमुना नदी पर युद्धाभ्यास का ऐसा नजारा पेश किया, जिसे देखकर हर कोई चौंक गया. एक दर्जन टैंक ने लबालब यमुना नदी को पार कर दुश्मन के पास पहुंचे और गोले और फायरिंग से दुश्मन को पस्त कर दिया. पहली बार है जब भारतीय सेना ने शहर के बीचोबीच और नदी के किनारे अभ्यास किया है. जानकारी के मुताबिक यह अभ्यास दुश्मन के देश के भीतर हमले की आशंकाओं को ध्यान में रखते हुए किया गया है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
‘मेघ प्रहार’ कोड नामक इस अभ्यास की अगुवाई सेना की बख्तरबंद डिवीजन ने की. जिसमें अलग अलग तरह के उपकरण, कमांडरों की नवाचारिता, संयुक्त प्रयास, पेशेवर नजरिए और दूरसंचार विभाग ने दिखाया कि युद्ध होने पर कैसे दुश्मन को धूल चटा सकते हैं.
 
इस अभ्‍यास में सेना की आर्म्‍ड ब्रिगेड और मैकेनाइजड इंफेंट्री ने हिस्‍सा लिया. अभ्‍यास के तहत यमुना नदी के एक छोर को दुश्‍मन का इलाका बनाया और इसका नाम लाल देश रखा. वहीं सेना की तरफ वाले छोर को नीला देश बनाया गया. टैंकों को पार ले जाने के लिए खास तरह की राफ्ट का प्रयोग किया गया.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
एक घंटे तक चले इस अभ्‍यास में सेना की हिसार यूनिट के टैंक और बीएमपी मशीन इस्‍तेमाल की गई. युद्धाभ्‍यास में शामिल हुई स्‍ट्राइक कोर को सबसे घातक माना जाता है. युद्ध के समय यही दुश्‍मन पर हमला बोलती है.
 
वीडियो पर क्लिक कर देखिए पूरा शो