नई दिल्ली. देश की राजधानी दिल्ली से 138 किलोमीटर दूर करोड़ो का खजाना बिखरा हुआ है. दिल्ली से नेशनल हाईवे 24 पर उत्तर प्रदेश का एक छोटा से शहर अमरोहा में करोड़ो का खजाना बिखरा हुआ है. अमरोहा के कई गांवों को लाल सोने के खजाने ने तरक्की की नई राहें दिखाई हैं.
 
जमापुर, सूदनगर और अंबेडकर नगर में भी लाल सोने ने सैकड़ों को करोड़पति बनाया है. गांव वालों का कहना है कि लाल सोने के आने के पहले गांव के किसान काफी गरीब थे, लोगों को पैसों के अमरोहा के एक गांव में पहलवानों ने पहलवानी छोडकर खेती में किस्मत चमकायी. छोटा सा गांव है सलारपुर खालसा, जिसकी आबादी करीब 3500 है. इस गांव ने टमाटर की खास खेती के चलते पूरे देश में पहचान बनायी है. इस गांव में टमाटर की खेती बड़े पैमाने पर होती है. 
 
गांव में 20 साल से चल रही टमाटर की खेती का क्षेत्रफल फैलता ही जा रहा है और आसपास के जमापुर, सूदनपुर तथा अंबेडकरनगर गांवों में इसकी खेती होने लगी है. पहले तो यह गांव पहलवानी की पहचान लिए अपनी ताकत का लोहा मनवाता रहा लेकिन जब कुश्ती और पहलवानी करने के लिए पैसे की जरुरत पड़ी तो अपने पास मौजूद जमीन में ग्रामीण हाथ आजमाने शुरू कर दिए और दिमाग का इस्तेमाल कर फिर तंग हाल किस्मत के पन्नों पर कामयाबी की इबारत लिख डाली.
 
वीडियो पर क्लिक कर देखिए पूरा शो