नई दिल्ली. एलियंस हैं या नहीं इस सवाल का जवाब तो आज तक कोई साफ साफ नहीं दे पाया है, लेकिन धरती पर कई ऐसी चीजें है जो एलियंस के वजूद की तरफ बार बार इशारा करती हैं. ऐसी ही एक चीज है क्रिस्टल स्कल, जो पिछले कई हजार सालों से मनुष्य के लिए सबसे बड़ी पहेली बनी हुई है. आज तक कोई भी वैज्ञानिक इस सवाल का जवाब नहीं दे पाया कि आखिर ये आए कहां से इसे किसने और कैसे बनाया.  
 
कहां से आए ये क्रिस्टल स्कल्स?
ये क्रिस्टल स्कल्स या क्रिस्टल की खोपड़ियों का राज़ पिछले कई हज़ार सालों से दुनिया के सामने नहीं आया है. पूरी दुनिया में ऐसी 13 क्रिस्टल खोपड़ियों के होने की बात मानी जाती है.  इन 13 में से 12 खोपड़ियां खोज ली गई हैं लेकिन 13वीं अब भी दुनिया की नज़रों से दूर है. एलियन रिसर्चर्स मानते हैं कि ये क्रिस्टल की खोपड़ियां परग्रहियों के निशान हैं. जिन्होंने हज़ारों साल पहले उसे धरती पर छोड़ा था. ये क्रिस्टल स्क्ल्स एक ही स्फटिक की बड़ी चट्टान को काटकर बनाया गया है. इसका कोई भी हिस्सा जोड़ा नहीं गया है. जबकि विज्ञान की बात करें तो ये संभव ही नहीं है क्योंकि आधुनिक विज्ञान अभी तक कोई ऐसी तकनीक नहीं खोज पाया है जिससे एक ही क्रिस्टल को खोपड़ी तो छोडिए किसी भी शक्ल में काटा जा सके क्योंकि क्रिस्टल पर जैसे ही ऐसा करने की कोशिश की जाएगी वो चटख जाएगा. 
 
हर खोपड़ी में छिपा है ग्रह का राज
कुछ एलियन रिसर्चर्स ये भी मानते हैं कि धरती पर हज़ारों साल पहले कुछ ऐसे एलियंस आए जिनकी खोपड़ियां क्रिस्टल की थीं. उन खोपड़ियों में ऊर्जा के बेहद ताकतवर स्रोत थे. एलियंस की ये प्रजाति का दिमाग और विज्ञान हमसे हज़ारों गुना उन्नत था.  क्या एलियंस ने ये क्रिस्टल स्कल्स इसलिए धरती पर छोड़े क्योंकि हर खोपड़ी में छिपा था एक एक ग्रह का राज. क्या ये क्रिस्टल स्कल्स किसी दूसरी दुनिया का पता देने वाले बड़े संकेत हैं. क्या ये ऊर्जा इन क्रिस्टल स्कल्स में दूसरे ग्रहों से आती है.
 
इंडिया न्यूज के खास शो ‘नीला चांद‘ में देखिए दूसरे ग्रह के लोगों ने क्रिस्टल स्कल्स से बनाया कनेक्शन ?
  
वीडियो पर क्लिक करके देखिए पूरा शो