नई दिल्ली. आज़ाद हिंदुस्तान को सबसे शर्मसार करने वाला वाक्या पेश आया है जहां जान की कीमत कुछ हज़ार भी नहीं महज़ दो सौ रूपए हो गई. इंदौर से महज़ 22 किलोमीटर दूर बेरछा गांव में सन्नाटा, वीरानी, बदहाली और भूख की स्याह चादर पूरे गांव पर फैली देखी गई है. 
 
हिंदुस्तान जहां एक तरफ विकास के सूरज की रोशनी में चमक रहा है. वहीं मध्य भारत का ये गांव अपने बच्चों को पालने और पेट की भूख मिटाने के लिए मौत की शक्ल वाले बमों के गोले बीनने के लिए मजबूर है.
 
इंडिया न्यूज के खास शो ‘Exclusive Report’ में देखिए की किस तरह पूरे गांव को पेट पालने के लिए क्या क्या करना पड़ रहा है.
 
वीडियो पर क्लिक करके देखिए पूरा शो