यूपी सरकार ने राज्य के गरीब महिला और पुरुषों को साड़ी और कंबल देने की योजना शुरु की थी लेकिन इस योजना में साड़ियों का रंग सरकार के लिए मुसीबत बन गया. जिन महिलाओं को लाल रंग मिलता वह नीली रंग की साड़ियों की मांग करती और जिन्हें नीली साड़ी मिलती वो लाल रंग की साड़ियों की मांग करतीं.
 
अखिलेश सरकार ने इस परेशानी को खत्म करते हुए महिलाओं को साड़ियों के बदले पांच-पांच सौ रुपये बतौर पेंशन देना शुरु कर दिया. सरकार के इस कदम के बाद सवाल उठे है कि अगर सरकारी खाते से कभी लैपटॉप और मवेशी पाने वाले लोगों ने भी सामान के बदले पेंशन की मांग की तो क्या सरकार के लिए नई परेशानी नहीं बढ़ जाएगी.