नई दिल्ली.  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सत्ता में आने के बाद से अभी तक बैंकों में जमा करीब 4500 किलो सोना जब्त किया जा चुका है. इस सोने का कोई मालिक नहीं था इसी के चलते इसे सरकारी खजाने में कम करा दिया गया है. इस सोने की कीमत करीब 1200 करोड़ बताई जा रही है. इस सोने का असली मालिक दाउद गैंग बताया जा रहा है जो भारत में सोने की तस्करी में सबसे अव्वल है. अब इसी सोने से मोदी देश के लाएंगे अच्छे दिन.

बढ़ रही है सोने की तस्करी 
देश में सोने की तस्करी बढ़ी है. मूल्यवान धातु के आयात पर प्रतिबंध में ढील देने के बावजूद वर्ष 2012-13 के मुकाबले 2014-15 में सोने की तस्करी के मामले में पांच गुना वृद्धि हुई. इस दौरान 1,120 करोड़ रूपये मूल्य का सोना जब्त किया गया. राजस्व खुफिया अधिकारियों को जो चीज सबसे ज्यादा परेशान कर रही है, वह यह है कि देश में इसी अवधि के दौरान कानूनी रूप से आयात में उल्लेखनीय वृद्धि हुई, जबकि तस्करी के मामले कम नहीं हुए.

दर्ज हुए कुल 4400 मामले 
राजस्व खुफिया निदेशालय ने एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि वित्त वर्ष 2014-15 के दौरान देश में सोने की तस्करी के कुल 4,400 मामले दर्ज हुए. इन मामलों में 1,120 करोड़ रूपये मूल्य के करीब 4,480 किलो (4.48 टन) सोना बरामद किया गया. इन मामलों में पिछले साल 252 लोगों को गिरफ्तार किया गया.

अधिकारी के अनुसार वित्त वर्ष 2012-13 में सोने की तस्करी के 870 मामले दर्ज किये गये. यह 2014-15 के मुकाबले करीब पांच गुना कम है। इन मामलों में 100 करोड़ रूपये मूल्य के करीब 400 किलो सोना जब्त किया गया. उन्होंने कहा कि वहीं 2013-14 में 2,700 ऐसे मामले दर्ज किये गये। इस दौरान 690 करोड़ रूपये का 2,760 किलो सोना जब्त किया गया.

एजेंसी इनपुट भी