नई दिल्ली. आज से छठ पूजा महापर्व शुरू हो गया है. इस पर्व को सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि विदेश में रह रहे भारतीय भी धूमधाम से मनाते हैं. आज छठ पूजा का पहला दिन है. यानि आज छठ पूजा नहाय खाय है. इस दिन लोग अपने घर की साफ सफाई करते हैं. और सूर्योदय के बाद नदी, तालाब, पोखर या नहर में स्नान करने जाते हैं. वैसे तो छठ का त्योहार साल में दो बार मनाया जाता है. इस व्रत के करने के पीछे कई मान्यताएं प्रचलित है. कहा तो जाता है कि इस व्रत को माता सीता ने भी किया था. तभी से इस व्रत को करने की परंपरा चली आ रही है. साथ ही ये मान्यता भी है कि इस व्रत को द्रोपदी ने भी किया था. जब पांडव सारा राज-पाठ हार गये थे. ये पर्व चार दिन तक मनाया जाता है.
 
छठ पूजा नहाय खाय शुरू
 
 
दिवाली के छह दिन बाद छठ महापर्व मनाया जाता है. कार्तिक शुक्ल की चतुर्थी को नहाय-खाय होता है. ये छठ पूजा का पहला चरण होता है. इसी दिन से छठ पूजा का आगाज होता है. इस दिन पूरे घर की साफ सफाई कर छठ वर्ती स्नान करते हैं. स्नान के लिए व्रती नदी तालाब, कुंआ, नहर, पोखर पर जाकर स्नान करते है और साफ सुथरे कपड़े पहनते हैं. खाने में शुद्ध अरवा चावल, चने की दाल, लौकी की सब्जी और कद्दू ग्रहण करते हैं. इसी दिन से व्रती बिस्तर पर सोना त्याग कर जमीन पर सोना शुरू कर देते हैं. और व्रत संपन्न होने तक बिस्तर पर नहीं सोते हैं. इन चार दिन तक व्रती के घर के सभी सदस्यों को शराब, मांस और अंडा का सेवन नहीं करना है.
 
छठ पूजा नहाय खाय शुभ मुहूर्त 
नहाय खाय 24 अक्टूबर- सुबह 7 बजे से शुरू
नहाय खाय 24 अक्टूबर- 2.30 बजे तक