मुंबई. महाराष्ट्र में दाल और अन्य खाद्य पदार्थों के बढ़ते दामों को लेकर शिवसेना ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस पर तंज कसा है. शिवसेना ने कहा है कि सीएम की पत्नी ने महंगाई के खिलाफ बोला है जिसके लिए हम उनके आभारी हैं. अब सीएम को अपनी पत्नी की बात सुन लेनी चाहिए.

शिवसेना ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ के संपादकीय में लिखा है कि जिन लोगों ने बदलाव के लिए वोट दिया, वे कम से कम अपना खाद्यान्न खरीदने में तो सक्षम हो पाएं. ये सरकार जमाखोरों और कालाबाजारियों के लिए नहीं है.

संपादकीय में ये भी लिखा है कि करीब 40,000 मीट्रिक टन जब्त दाल गोदामों में पड़ी है. क्या उसे सड़ने के लिए छोड़ दिया गया है ? उस दाल को आम आदमी की थाली में जाने दीजिए.

शिवसेना ने कहा है कि अगर ऐसा नहीं होता है, तो क्या उसे उन लोगों के वास्ते स्मारक के रूप में इस्तेमाल करने के लिए रखा गया है जिनकी जान भूख के चलते चली गई या फिर उन आदिवासी बच्चों के लिए, जो कुपोषण से मर जाते हैं.

शिवसेना का कहना है कि बीजेपी ने कहा था कि तूर दाल 100 रुपये प्रति किलो पर बेची जाएगी. राज्य के लोग अब भी उसका इंतजार कर रहे हैं. अगर वे इस दाम पर दाल बेच पाते हैं तो हम मुख्यमंत्री और बीजेपी के मंत्रियों को पूरा श्रेय देने को तैयार हैं.