नागपुर. बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान खुलकर पार्टी का विरोध करने वाले बीजेपी के सीनियर नेता और पूर्व एक्टर शत्रुघ्न ने एक बार फिर पार्टी पर हमला बोला है. नागपुर में एक कार्यक्रम के दौरान सिन्हा ने कहा कि मुझे जितना बोलना है, बोल दिया, अब बड़े बुजुर्ग बोल रहे हैं. कर रहे हैं. अब मैं शांत मन से किनारे बैठूंगा. आराम से बैठकर जग का मुजरा देखूंगा. क्या-क्या हो रहा है. क्या-क्या होना चाहिए.
 
‘बीजेपी में ही रहूंगा’
पार्टी विरोधी गतिविधि के लिए कार्रवाई की कयासबाजी पर बिहारी बाबू ने कहा, “मैं बीजेपी में था, मैं बीजेपी में हूं और मैं बीजेपी में रहूंगा. मुझपर क्यों कारवाई होगी? मैंने क्या गलत किया है?” बिहार चुनाव में पार्टी को मिली करारी हार पर शत्रुघ्न सिन्हा ने एक बार फिर दोहराया कि जब ताली कप्तान को तो गाली भी कप्तान को मिलनी चाहिए. पार्टी विरोधी गतिविधि को लेकर किसी कार्रवाई से बखौफ शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा, “अगर सच बोलना बगावत है तो फिर मैंने बगावत की है.”
 
चुनाव से उन्हें बाहर रखे जाने पर शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा, “मैं रिकॉर्ड मार्जिन से जीता हूँ. जाहि है लोग मुझे चाहते हैं. फिर भी मुझे बाहर रखा जाएगा तो क्या ये ठीक है?” हालांकि, पीएम नरेंद्र मोदी को डेशिंग, डायनेमिक और स्मार्ट कहकर उनकी तारीफ की. लेकिन उन्होंने ये भी कहा कि अगर वो दिग्विजय सिंह से मिलने जा सकते है तो उनके लालू या नितीश से मिलने पर सवाल क्यों? इसका कतई मतलब ये नहीं है कि वो पार्टी बदल रहे हैं.