मुंबई. लेखक और नाटककार गिरीश कर्नाड का महाराष्ट्र में भी विरोध होना शुरू हो गया है. कर्नाड टीपू सुल्तान की तुलना छत्रपति शिवाजी से करने के बाद महाराष्ट्र के नेता भी उनपर भड़क गए हैं.  महाराष्ट्र कांग्रेस के विधायक नितेश राणे ने ट्वीट कर कहा है की जबतक गिरीश कर्नाड माफ़ी नहीं मांगते, उन्हें महाराष्ट्र की धरती पर पैर रखने नहीं दिया जाएगा. 
 

राणे ने कहा कि छत्रपति शिवाजी के शख्सियत की तुलना किसी और से हो नहीं सकती. शिवाजी सभी धर्मों को एक साथ लेकर चलनेवाले शासक थे. कर्नाड ने हाल ही में कर्नाटक सरकार के मंच से बोलते हुए कहा था कि अगर टीपू सुल्तान हिन्दू होता तो उसे छत्रपति शिवाजी जैसी ही इज्जत मिलती. शिवसेना ने भी कर्नाड के इस बयान का विरोध किया है. पार्टी नेता और राज्य के पर्यावरण मंत्री रामदास कदम ने कहा है कि कर्नाड की बात किसी सिरफिरे के बयान से कम नहीं.