लखनऊ. पाकिस्तानी गजल गायक गुलाम अली के 3 दिसंबर को लखनऊ में कार्यक्रम करने की ख़बरों के बाद शिवसेना की तरफ से धमकी भरी प्रतिक्रिया आई है. शिवसेना ने कहा है कि अगर गुलाम अली भारत आए तो उनकी हालत सुधींद्र कुलकर्णी से भी बुरी होगी. अली का सिर्फ मुंह काला नहीं किया जाएगा बल्कि उन्हें भारत आने का खामियाजा भुगतना पड़ेगा. हालांकि कल देर शाम गुलाम अली ने भारत आने से फिर इनकार कर दिया है. 
 
गुलाम अली नहीं आना चाहते भारत
पाकिस्तानी गजल गायक गुलाम अली ने उन खबरों को खारिज कर दिया है, जिनमें कहा गया था कि उन्होंने दिसंबर में नई दिल्ली और जयपुर में होने वाले समारोहों में शिरकत करने के लिए सहमति दे दी है.
 
जियो न्यूज चैनल से बाचीत में उन्होंने कहा कि यदि किसी ने कोई तारीख बताई कि मैं फलां दिन भारत में प्रस्तुति दूंगा तो उसने ऐसा अपने आप ही किया होगा. मैंने अगले माह जयपुर में किसी समारोह के लिए न तो कोई वादा किया है और न ही कोई तारीख दी है.
 
इस दिग्गज गजल गायक को पिछले माह शिवसेना के विरोध के चलते मुंबई और पुणे में अपने समारोह रद्द करने पड़े थे. इसके अलावा इन्होंने आठ नवंबर को नई दिल्ली में होने वाले एक समारोह को भी रद्द कर दिया था.
 
गुलाम अली ने कहा कि फिलहाल भारत में मेरे किसी समारोह की कोई योजना नहीं है. मुझे नहीं लगता कि इस समय मेरे लिए भारत जाने और वहां प्रस्तुति देने के लिहाज से उपयुक्त माहौल है. मेरा दिल भारत जाने का नहीं है. मैं बीते समय में जब भी भारत गया हूं तो मुझे वहां बहुत प्यार मिला है, लेकिन मुझे नहीं लगता कि इस समय मैं वहां जाना चाहता हूं, क्योंकि मुझे राजनीति में घसीटा जाना पसंद नहीं है. 
 
शिवसेना की धमकी 
यूपी शिवसेना के चीफ अनिल सिंह ने कहा है कि मुंबई में सुधींद्र कुलकर्णी का सिर्फ चेहरा काला किया गया था लेकिन अगर गुलाम अली ने लखनऊ आने की हिम्मत की तो उनका हाल ज्यादा बुरा होगा. उन्होंने कहा कि हमने गुलाम अली की गतिविधियों पर नज़र रखी हुई है लेकिन अगर वे किसी तरह लखनऊ पहुंच भी गए तो शिवसैनिक उनका प्रोग्राम किसी कीमत पर नहीं होने देंगे.