पटना. बिहार के पटना स्थित गांधी मैदान में पार्टी की रैली को संबोधित करते हुए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने नीतीश कुमार की तुलना शून्य से की. उन्होंने कहा कि लालू को शून्य से मिलने पर शून्य मिलेगा. वहीं जब बक्सर से सांसद अश्विनी चौबे को मंच पर जाने से पुलिस ने रोका तो चौबे नाराज हो गए. दरअसल अश्विनी चौबे रैली में शामिल होने के लिए आए थे, लेकिन पुलिस ने उन्हें मंच पर इसलिए चढ़ने नहीं दिया क्योंकि मंच पर बैठने वाले 15 लोगों की लिस्ट में अश्विनी का नाम नहीं था.

बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि पटना के गांधी मैदान में उमड़ी भीड़ देखकर यह किसी को भी समझ लेना चाहिए कि बिहार में आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा दो-तिहाई बहुमत से सत्ता में आएगी. उन्होंने कहा कि बिहार ने केंद्र में भारी बहुमत से भाजपा की सरकार बनवाने में अहम भूमिका निभाई है. उन्होंने विवादास्पद भूमि अधिग्रहण विधेयक का बचाव करते हुए कहा कि यह विधेयक कारपोरेट घरानों के लिए नहीं, बल्कि किसानों और गांवों के विकास के लिए है. 

राजनीति सिर्फ सरकार बनाने के लिए न की जाए: राजनाथ

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने आयोजित रैली में कहा कि राजनीति केवल सरकार बनाने के लिए नहीं की जानी चाहिए, बल्कि समाज और देश बनाने के लिए की जानी चाहिए. केंद्र की सरकार बिहार को देश के अग्रणी राज्यों की श्रेणी में शामिल होते देखना चाहती है, इसके लिए लगातार मदद की जा रही है. केंद्र सरकार ने बिहार और पश्चिम बंगाल के अत्यंत पिछड़े राज्य होने के कारण अतिरिक्त 20 हजार करोड़ रुपए की सहायता देने का निर्णय लिया है. राजनाथ ने बिहार में विधानसभा चुनाव होने से आठ महीने पहले ही मतदाताओं से दो-तिहाई बहुमत देकर भाजपा की सरकार बनाने की अपील की.