नई दिल्ली. मीडिया के लिए ‘प्रेसटीट्यूट’ शब्द का इस्तेमाल करने को लेकर केंद्रीय मंत्री वीके सिंह ने मीडिया से माफी मांग ली है. लेकिन साथ ही जोड़ा कि उनके खिलाफ ‘प्रेरित अभियान’ चलाने वाले मीडिया के एक छोटे से धड़े को छोड़कर वह मीडिया से माफी मांगते हैं. वीके सिंह ने  कहा कि उनका मानना है कि मीडिया का 90 फीसदी हिस्सा अपना काम जिम्मेदारी के साथ कर रहा है. उन्होंने कहा, ‘अगर 90 फीसदी को बुरा लगा तो मैं माफी मांगता हूं. मैंने 10 फीसदी के लिए इस शब्द का इस्तेमाल किया और वे इस शब्द के लायक हैं.’

बता दें कि यमन से भारतीयों को निकालने के लिए चलाए गए अभियान की जिबोती में देख रेख करने के दौरान सिंह ने यमन से लोगों को निकालने की तुलना हाल की अपनी पाक उच्चायोग यात्रा से करते हुए कहा था कि लोगों को सुरक्षित निकालने का काम ‘कम रोमांचक’ है. उन्होंने अपनी तुलनात्मक टिप्पणियों को प्रसारित करने को लेकर बाद में एक टीवी चैनल के खिलाफ अलग से व्यंग्यपूर्ण टिप्पणी की थी. उन्होंने मंगलवार को एक ट्वीट में कहा, ‘दोस्तों आप प्रेसटीट्यूट से क्या उम्मीद करते हैं.’ उन्होंने कहा कि टीवी एंकर ने इसमें ई अक्षर की जगह ओ अक्षर समझ लिया. उनकी टिप्पणियों की राजनीतिक पार्टियों और मीडिया संस्था ने तीखी आलोचना की.