नई दिल्ली. तीन दिवसीय भारत यात्रा पर आईं जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल का सोमवार को राष्ट्रपति भवन में स्वागत किया गया. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने दोनों देशों के बीच प्रतिनिधिमंडल स्तर की बातचीत से पहले मार्केल से मुलाकात की. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने इस बारे में ट्विटर पर लिखा. उन्होंने जर्मन भाषा में सुप्रभात के लिए ‘गुटेन मॉर्गन’ के साथ शुरुआत की. प्रधानमंत्री ने दोनों देशों के बीच वार्ता शुरू होने से पूर्व मर्केल का राजकीय अतिथि गृह ‘हैदराबाद हाउस’ में स्वागत किया. 
 
जर्मनी और भारत के बीच  वित्त, सुरक्षा और नागरिक उड्डयन क्षेत्रों में महत्वपूर्ण समझौते हुए हैं. दोनों देशों ने 18 समझौतों पर हस्ताक्षर किए. दोनों देशों की बातचीत के बाद साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस की गई, जिसमें एंजेला मार्केल और नरेंद्र मोदी ने कई महत्त्वपूर्ण बातें कहीं.
 
पीएम मोदी  ने साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस में जर्मनी की चांसलर एंजेला मार्केल का स्वागत किया और उन्होंने कहा कि भारत के लोगों की ओर से, मैं जर्मनी को उसके एकीकरण की 25वीं सालगिरह पर बधाई देता हूं. पिछले कुछ वर्षों में हमारे संबंध लगातार मजबूत हुए हैं. भारतीय आईटी स्किल्स और जर्मन इंजीनियरिंग मिलकर कमाल कर सकते हैं. मैं मार्केल का दुर्गा प्रतिमा लौटाने के लिए धन्यवाद करता हूं.
 
एंजेला मर्केल ने पीएम नरेंद्र मोदी का स्वागत करते हुए कहा कि हमें खुशी है कि हमारे छोटे एवं लघु उद्योगों का भारत में स्वागत किया जा रहा है. ग्रामीण इलाकों के लिए ऊर्चा सहयोग काफी अहमियत रखता है और इनके बिना स्थायी विकास संभव नहीं है. हम बहुत सारे क्षेत्रों जैसे  विज्ञान, तकनीक और व्यवसायिक क्षेत्र में एकमत हुए हैं. मुझे यकीन है कि भारत का डिजिटल क्षेत्र में अनुभव हमारे काम आएगा. 
 
IANS इनपुट्स भी