गांधीनगर. जम्मू-कश्मीर से सेना हटाने और सियाचिन से सुरक्षा बलों की बिना शर्त वापसी के पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की मांग पर रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने पलटवार करते हुए कहा कि वह इस मामले में भारत को सलाह न दें.
 
गुजरात के खेड़ा जिले के वडतल गांव में पर्रिकर ने कहा, ‘हमें दूसरों से सुनने की जरूरत नहीं है कि हमें हमारे देश में क्या करना चाहिए. यदि कोई हमारे देश के बारे में कुछ कह रहा है तो मैं इसकी अनदेखी करना पसंद करूंगा.’
 
पाकिस्तान के पीएम नवाज शरीफ ने 30 सितंबर को यूएन में दिए अपने भाषण में भारत को चार सूत्री शांति पहल का प्रस्ताव किया था जिसमें कश्मीर से सेना हटाने का प्रस्ताव भी शामिल था.
 
मेक इन इंडिया से रक्षा क्षेत्र को मिलेगा बढ़ावा
रक्षा मंत्री ने कहा कि रक्षा क्षेत्र में ‘मेक इन इंडिया’ नीति अपनाने से 20-30 लाख नौकरियां पैदा होंगी. पर्रिकर ने कहा, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली सरकार की ओर से शुरू किए गए कार्यक्रमों में मेक इन इंडिया एक प्रमुख कार्यक्रम है.यदि मेक इन इंडिया हो तो रक्षा क्षेत्र में 20-30 लाख लोगों को रोजगार मिलेगा. यह दो-तीन दिनों में ही नहीं होने वाला है.’