बेंगलुरू. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि कालेधन के मुद्दे पर देशभर में झूठ फैलाया गया. मोदी ने विपक्ष के सवालों पर कटाक्ष करते हुए कहा कि अब कालेधन पर संसद में विधेयक लाने के बाद उनके मुंह पर ताला लग गया है. भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के पहले दिन रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने अगले महीने एक साल पूरा करने जा रही अपनी सरकार की उपलब्धियों का बखान किया.

मोदी ने कहा, “कालाधन पर देश में झूठ फैलाया गया. पुरानी सरकार कालेधन के मुद्दे पर कोई निर्णय लेने को तैयार नहीं थी. कुछ लोग हमें ताने मारते रहते थे कि मोदी जी चुनाव में काले धन की बड़ी बातें करते थे, कहां है काला धन? काला धन कब आएगा? काला धन आएगा कि नहीं आएगा? सच को दबाने के लिए झूठ चलाया गया. सरकार बनने के बाद पहली कैबिनेट मीटिंग में हमने एसआईटी बनाने का फैसला ले लिया था. अब सुप्रीम कोर्ट में एसआईटी लगातार रिपोर्ट दे रही है.”

उन्होंने कहा, “कालेधन पर जी-20 में प्रस्ताव पारित हुआ. कालेधन पर संसद में कड़ा कानून रखा और दुनिया ने भी कालेधन पर हमारी बात मानी. दुनियाभर के नेताओं से आंखें मिलाकर हमने कालेधन पर बात की.” मोदी ने कहा कि उनकी सरकार का मकसद कालाधन वापस लाना ही नहीं है, बल्कि कोई कालेधन को बाहर ले जाने की हिम्मत न करे, इसका भी इंतजाम करना है.

मोदी ने कहा, “नीति से ज्यादा ताकतवर नीयत होती है. देश के पीछे रहने का कोई कारण नहीं है. देश तेज गति से चल पड़ा है. कई प्रोजेक्ट लटके पड़े थे. हमारी सरकार ने उन प्रोजेक्ट्स को आगे बढ़ाया है.” कोयला मुद्दे पर मोदी ने कहा, ” भाजपा सरकार ने कोयले में हाथ डाला और कोयले को हीरा बनाया. कोयले को हमने देश को समर्पित किया. 2014 में से 20 खदानों की नीलामी हुई. इस नीलामी से दो लाख करोड़ रुपये आया. हमने स्पेक्ट्रम की नीलामी करवाई. इस नीलामी से एक लाख करोड़ से ज्यादा की कमाई हुई.”

रेलवे में सुधार पर प्रधानमंत्री ने कहा, “देश में पहली बार दूरदर्शी रेल बजट पेश किया गया. पहले सांसद चिट्ठियां लिखते थे और रेल मंत्रालय उनमें से कुछ को कंपाइल कर लेता था. वह रेल बजट होता था लेकिन हमारी सरकार ने पहली बार एक विजन के साथ दूरदर्शी रेल बजट पेश किया है.”