नीमच. मध्य प्रदेश में असमय बारिश के कारण हुए नुकसान का जायजा लेने के लिए गुरुवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने नीमच जिले का दौरा किया. इस दौरान उन्होंने केंद्रीय राज्यमंत्री गिरिराज सिंह की अमर्यादित टिप्पणी पर कोई भी प्रतिक्रया देने से इंकार कर दिया. उन्होंने कहा, “संकीर्ण मानसिकता वालों पर कोई भी टिप्पणी या बयान नहीं देना ही मेरा जवाब है.”

सोनिया गांधी से जब संवाददाताओं ने केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह के आपत्तिजनक बयान के संबंध में सवाल किया तो उन्होंने कहा कि संकीर्ण मानसिकता वालों पर किसी तरह का बयान देना मुनासिब नहीं है और टिप्पणी न करने को ही उसका जवाब माना जाए. उल्लेखनीय है कि सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग मामलों के केंद्रीय राज्यमंत्री गिरिराज सिंह ने बीते दिनों आपत्तिजनक बयान देते हुए कहा था कि सोनिया गांधी की गोरी चमड़ी के कारण ही कांग्रेस ने उन्हें अपना नेता चुना. गिरिराज के इस बयान की चारों तरफ निंदा हुई.

भारतीय जनता पार्टी ने भी गिरिराज के बयान से किनारा कर लिया था. बाद में हालांकि विवाद गहराता देख गिरिराज ने अपने बयान पर खेद जताया था. प्राकृतिक आपदा से किसानों को हुए नुकसान की चर्चा करते हुए सोनिया गांधी ने कहा कि केंद्र व राज्य सरकारों को बगैर किसी भेदभाव के किसानों को राहत देना चाहिए. साथ ही उन्होंने कहा कि कांग्रेस किसानों के हित में लड़ाई लड़ रही है और लड़ती रहेगी.

इससे पहले सोनिया गांधी ने नीमच जिले के कई गांवों के खेतों में जाकर फसलों का हाल जाना. पिछले दिनों राज्य में हुई ओलावृष्टि व अत्यधिक बारिश ने फसलों को भारी नुकसान पहुंचाया है. उन्होंने किसानों को ढांढस बंधाया. साथ ही कहा कि कांग्रेस पार्टी केंद्र व राज्य सरकार से राहत दिलाने का प्रयास करेगी. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी गुरुवार की सुबह नीमच पहुंची थीं. हवाईपट्टी पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने उनकी अगवानी की. उसके बाद सोनिया गांधी उन गांव की ओर बढ़ गई जहां फसलों को नुकसान हुआ है. प्राकृतिक आपदा का शिकार हुए किसानों ने अपनी खराब हुई फसल हाथ में लेकर सोनिया गांधी को अपना हाल सुनाया.